.quickedit{display:none;}

Best Hindi Motivational and Inspirational story,prernadayak kahani,Inspiring Quotes,Anmol Vachan ,Suvichar,Personality Development article in hindi,whatsapp status,success mantra

Today Pageviews

Powered by Blogger.

हमारी नई पोस्ट को Email पर प्राप्त करने के लिए

Followers

सबसे ज्यादा पढ़ी गयी पोस्ट !

Friday, June 24, 2016

खोखले बहाने


success-hollow-excuses-in-hindi


हम सब लोग बहाने बहुत बनाते है , मैं  गरीब  घर  से  आया  हूँ , मेरी  हाईट  नहीं  है , मैं  सुन  नहीं  सकता , मैं  देख  नहीं  सकता , मेरी  आवाज  खराब  है , मेरी  उम्र  बहुत  है , मेरी  उम्र  बहुत  कम  है ,   खुद  को  सहीं  साबित  करने  के  लिए लेकिन  में  आपको  बताना  चाहता  हूँ "complainer  don't  create  and  creater  don't  complaints " मतलब  जो  शिकायत  करते  है  वो  कुछ  नहीं  करते  जो  कुछ  करते  है  वो  शिकायत  नहीं  करते ।
आज  मैं  आपको  कुछ  लोगों  के  बारें  में  बताना  चाहता  हूँ :-

सबसे  पहले  भारत  कि  शान  धीरूभाई  अंबानी  चौथी  फेल  और  पेट्रोल  पंप  पर  काम  करते  थे , लेकिन  उन्होनें एक  सपना  देखा  कि  आज  भले  ही  मैं  पेट्रोल  पंप  पर  काम  कर  रहा  हूँ  लेकिन  एक  दिन  मेरी  खुद  कि रिफायनरी  होगी। शेख  चिल्ली  का  विचार  बोला  जा  सकता  है  लेकिन  दुनिया  में  वहीं  तो  सफल  होते  है  जो  शेख  चिल्ली  के  विचार  पर  काम  करते  है ।

एक  बार  उनके  दोस्तों  ने  कहा  तुम्हारी  और  हमारी  सैलरी  बराबर  है  लेकिन  तुम  उस  5 स्टार  होटल  में  जा  कर 2.5  रूपय  कि  चाय  क्यों  पीते  हो  जबकि , हम  यहाँ  ठेले  पर  25 पैसे  कि  चाय  पीते  है ,  तुन्हारें  में  एेसा  क्या घमंड़  है , तो  धीरू भाई  जवाब  देते  है  मुझे  चाय  में  कोई  समस्या  नहीं  है  चाय  पीते - पीते  जो  तुम  लोगों  कि  छोटी - छोटी  बाते  है  न  उससे  मुझे  समस्या  है  मैं  जिस  होटल  में  2.5 रूपय  कि  चाय  पीने  जाता  हूँ , वहाँ  लाखों करोड़ो  के  सौदे  कैसे  होते  है  वह  बहुत  महत्वपूर्ण  है ।

अब्रहम  लिंकन  इनको  लोग  ने  कुत्ते  कि  पुँछ  नाम  दे  दिया  था , क्योंकि  यह  सोलह  बार  चुनाव  हारे  थे । लेकिन  17 वी  बार  जब  जीते  तो  सीधे  टॉप  पर  अमेरिका  के  राष्ट्रपति  और  हम  एक  हार  से  हार  मान  लेते  हैं  यह  सोलह  बार  हारे  थे ।

अमिताब बच्चन  जो  पहली  बार  जॉब  के  लिए  ऑल  इंडिया  रेडियो  में  गए  थे , तो  उन्हें  बोला  गया  तुम्हारी  आवाज  नहीं  चलेगी  तो  अमिताब  बच्चन  ने  बोला  आवाज  नहीं  चलेगी  ऐसा  कैसे  चलेगा । फिर  एक  समय  एेसा  आया  कि इनकी  आवाज  के  बिना  कोई  फिल्म  नहीं  चलती  थी  और  बाद  में  यही  आवाज  गोल्डन  voice  के  नाम  से  जानी  जाती  है । ऐसे  महान  व्यक्ति  जो  1999  में  90 करोड़  कर्ज  के  बाद  आज  1900  करोड़  प्लस  में है । जिन्होने  दुनिया  को  बता  दिया , हम  जहाँ  से  खड़े  होते  है  लाईन  वही  से  शुरू  होती  है ।


बिल गेट  के  बारे  में  बहुत  से  लोग  बहुत  सारी  बाते  कहते  है , मैं  सिर्फ  एक  बात  बताना  चाहुँगा  कि  लोग  बोलते  है  बिल  गेट  कि  किस्मत  बहुत  अच्छी  थी ।  कि  वह  जहाँ  पर  रहता  था  उसके  पास  आधे  किलोमीटर  के  अन्दर  ही  एक  कम्प्यूटर  सेन्टर  था  तो  वह  वहाँ  जाकर  8 - 8  घन्टे   कुछ  न  कुछ  करता  रहता  था ।  तो  उसे  कम्पयूटर  कि  इतनी  जानकारी  हो  गई  लोग  बोलते  है , बिल गेट  कि  किस्मत  बहुत  अच्छी  थी  मैं  उनसे  कहना  चाहता  हूँ  बिल गेट  के  मोहल्ले  में  कोई  और  लड़का  नहीं  रहता  था  क्या , दोस्तो  किस्मत  नहीं  मेहनत  क्योंकि  बिना  मेहनत  के  हाथ  आई  कामयाबी  भी  आधे  रास्ते  से  चली  जाती  है । बिल गेट  वह  पर्सनैलिटी  है  जो  आज  अगर  काम  करना  बंद  कर  दे  तो  आने  वाले  700 सालो  तक  हर  दिन  एक  करोड़  रू  खर्च  कर  सकते  है,  लेकिन  आज  भी  वह  काम  करते  है  मैं  और  आप  कौन  है ।


जे. के. रोलिगं  वह  पर्सनैलिटी  है  दोस्तो  जिनको  उनके  पति  ने  तलाक  दे  दिया  था  तो  उनकी  एक  छोटी  बेटी  तीन  साल  कि  थी  उसे  लेकर  रोड़  पर  सोती  थी । पहले  बच्ची  को  सुलाती  बाद  में  टाईप राईटर  से  लिखती  और  दिन  में  काम  करती । इस  तरह  काम  करके  उन्होनें  1997  में  पहली  किताब  हैरी  पॉटर  को  लिखा , चार  साल  बाद वार्नर  ब्रोस  मूवीज  कि  नजर  इस  किताब  पर  पड़ी  है  एक  फिल्म  बनी  हैरी पॉटर  और  आज  इंगलैड  कि  महारानी  से  ज्यादा  कि  संपत्ती  2200 करोड़  डॉलर  कि  मालकिन  है  जे. के. रोलिंग ।


मास्टर  ब्लास्टर  सचिन  तेन्दुलकर  16  साल  कि  उम्र  में  क्रिकेट  खेलना  शुरू  किया ।  लाइफ  का  सबसे  बड़ा  अचीवमेन्ट  दसवी  में  फेल  लेकिन  आज  महाराष्ट्र  के  दसवी  कि  किताब  का  पहला  पाठ  है  तेन्दुलकर । क्रिकेट  में  बहुत  सारे  स्टेटमेन्ट  दिए  लोगों  ने  लेकिन  सचिन  ने  सारे  स्टेटमेन्ट  अपनी  बेटिंग  से  दिए ।  आज  एक  रिकार्ड  है  सचिन  के  नाम  पर  इतने  रिकार्ड  इसका  भी  एक  रिकार्ड ।


थॉमस  एडिसन  स्कूल  में  गए  टीचर  ने  घर  भेज  दिया  क्योंकि  उन्होनें  टीचर  से  पूछ  लिया  टीचर  तीन  से  पहले  दो  क्यों  और  दो  से  पहले  एक  क्यों  टीचर  ने  बोला  इसको  घर  भेजो  पागल  है  ये  तो । सुन  नहीं  सकते  थे  दोस्तों  माँ  ने  घर  पर  पढ़ाया । दुनिया  को  एक  से  एक  महान  1084  आविष्कार  देकर  गए  ग्रामोफोन ,  बल्ब , आदि । बल्ब  आज  थॉमस  एडिसन  कि  हि  देन  है  9,999  बार  फेल  हुए  10,000  बार  जब  सफल  हुए , तो  एक  पत्रकार  ने  पूछा  आप  9,999  बार  फेल  हुए  फिर  भी  आपने  अपना  काम  जारी  रखा  क्यों । तो थॉमस एडिसन  ने  कहा  कौन  कहता  है,  मैं  9,999  बार  फेल  हुआ  मैने  9,999  एेसी  खोजे  कर  दि  कि  इससे  तो  लाइट  नहीं  ही  बन  सकती  और  हम  बैठे  है  एक  न  सुनकर  और  हम  बैठे  है  दो  न  सुनकर  । जब  भी  भी  कोई  आपसे  बोले  नो   तो  इसका  मतलब  है  know  ( नो ) वह  ज्यादा  जानना  चाहता  है  क्योंकि  NO  का  मतलब  है  Next opportunity.

अतं  में  सिर्फ  स्वामी  विवेकानन्द  कि  एक  ही  बात  अपने  दिमाग  में  बैठा  ले , उनकी  बात  अपनी  रग - रग  में  भर  ले , सारी  दुनिया  में  आपका  नाम  होगा " आपके  अन्दर  वह  सब  शक्ति  है , आप  वह  सब  कुछ  पास  सकते  हो  जो  आप  चाहते  हो  लेकिन  याद  रखे  जब  तक  आपको  अपनी  मंजिल  न  मिले  डटे  रहे । "

हमें  डटे  रहना  है  अपनी  मंजिल  को  पकड़  लेना  है  अगर  आपकी  मंजिल  है । IAS  तो  अपके  रास्ते  में  जो  मुश्किले  आएगी  वो  IAS  के  लेवल  कि  अएगी , अगर  आपकी  मंजिल  है  एक  करोड़  रू  तो  आपको  जो  मुश्किले  आएगी  वो  एक  करोड़  के  लेवल  कि  आएगी , अगर  एक  लाख  कमाना  चाहते  है  तो  तकलिफे  एक  लाख  के  लेवल  कि  अएगी । तो  पहले  आप  तय  कर  लो  आपकी  मंजिल  क्या  है । इन  सभी  लोगों  को  आप  देखो  इनमें  से  एक  भी  ऐसा  नहीं  है  जो  हमसे  ऊपर  हो  लेकिन  आज  यह  सब  न  जाने  कहाँ - कहाँ  - कहाँ  पहुंच  गए  है ।  अब्रहम लिंकन , गाँधी ,  बच्चन,  टैरेसा  इन  सभी  पर्सनैलिटी  में  एक  बात  समान  है  इनके  फिर  से  खड़े  होकर  लड़ने  कि  शक्ति ।

क्योंकि  महान  व्यक्ति  वह  नहीं,  जो  कभी  गिरा  ही  नहीं ,
महान  तो  वह  है, जो  गिरकर  फिर  खड़ा  हो  जाता  है ।।


अन्य  समबन्धित  कहानी 
कैसे याद करें ?
अमीर कैसे बने
लगन और मेहनत = सफलता
McDonald कि सफलता का राज
snapdeal, ola cab ,oyo room कि सफलता

Tag :-

 From FailureTo Success Hindi Motivational Story.
 True motivational story in Hindi
Failure is the best teacher in Hindi ,
best story of success failure.
Consistency Hindi Motivational Story 

Inspirational Real Life Story In Hindi.
inspirational stories of famous people in hindi,
real life inspirational stories in hindi ,
inspirational stories of great people in hindi, 
inspirational stories hindi for student 
short motivational story in hindi ,
motivational stories in hindi for students  
motivational story in hindi for success








Wednesday, June 1, 2016

कैसे याद करें ?


कैसे  याद  करें ?


किसी  विषय  को  कैसे  समझें, उससे  समबन्धित  प्रश्नो  को  कैसे  याद  करें , अपनी  याददाश्त  कैसे  तेज  बनाएं, देखी, सुनी  और  अनुभव की  गई  जानकारी  को  तुरन्त  याद  करने  के  लिए  क्या  करें ? या  फिर  क्या  करें  कि  जब  जरूरत  हो ,वह  हमें  याद  आ  जाए । यह  सवाल  हम  सबके  दिमाग  में  जरूर  उठते  हैं।
Study-tips-in-hindi


क्या  कभी  आपने  कभी  सोचा  है? यह  समस्या  अगर  पढाई  में  हो  तो  और  भी  परेशानी  होती  है  क्योंकि  एक  छात्र  का  सबसे  ज्यादा  समय  पढ़ाई  करने  में  चला  जाता  है, और  जब  वह  परीक्षा  में  उत्तर  को  याद  करता  है  तो  वह  उसे  याद  नहीं  आते  हैं ।

आपको  ऐसी  समस्या  न  आए  इसके  लिए  आप  एक CRISMAS का  नियम  अपना  सकते  है ।
C - Concentration
R-  Ridiculous  Thinking 
I -  Imagination
S-  Sleep
M-  Mnemonic
A -  Association
S -  Spaced learning

 C- concentration  या  एकाग्रता  कोई  बात  जो  आपने  याद  कि  है  और  अब  आप  उसे  दिमाग  में  लाना  चाहते  है  तो  आपको  एकाग्रता  कि जरूरत  होगी । अब  एकाग्रता  रूचि  से  आती  है । अब  हमें  यह  बात  पता  होनी  चाहिए  कि  रूचि  ( इंट्रेस्ट )  कैसे  पैदा  की  जाए । जवाब  है  एसोसिएशन  या  संबंध  स्थापित  करके।

A -association या  संबंध  स्थापित  करना  -  अगर  आप  किसी  चींज  को  याद  करना  चाहते  है  तो  उसे  किसी  चीज  से  जोड़  कर  देखे,  इससे  आपको  याद  रखने  में  और  भी  मदद  मिलेगी ।
Example :-

विटामिन ABCDEK के रासायनिक नाम
.
Trick:--- “रथ एक टाफी”
1. विटामिन A— र— रेटिनाल
2. विटामिन B— थ— थायमीन
3. विटामिन C— ए— एस्कार्बिक अम्ल
4. विटामिन D— क— कैल्सीफ़ेरोल
5. विटामिन E— टा— टोकोफ़ेराल
6. विटामिन K— फी— फ़िलिक्वोनोन ।

यहाँ  पर  आप  सोच  सकते  है  कि  बीमार  आदमी  रथ
से  जा  रहा  है   जिस  पर  एक  विटामिन  कि  बहुत  बड़ी  टाफी  रखी  हुई  है । ऐसी   आप  दिमाग  में  एक  पिक्चर   बना  ले  तो  यह  आपको  बहुत  जल्दी  याद  हो  जाएगा ।

R-  Ridiculous  Thinking  या  अजीब  सोच -  बिल्कुल  अलग , अजीबो - गरीब  बातें  हमारे  दिमाग  में  ज्यादा  लंबे  समय  तक  याद  रहती  है ।  किसी  भी  साधारण  सी  जानकारी  को  असाधारण  या  अनोखे  तरिके  से  बनाकर  हम  उसे  लंबे  समय  तक  याद  रख  सकते  है । जैसा  मैनें  आपको  विटामिन  वाले  उदाहरण  में  बताया  है ।


I -  Imagination  कल्पना -   क्या  आपने  कभी  सोचा  है  कि  हमें  क्लास  में  नोट्स  क्यों   बनाने  पडते  है  लेकिन  जब  आप  एक  फिल्म  देखते  है  तो  वह  आपको  याद  हो  जाती  है  और  आपको  नोट्स  भी  नहीं  बनाना  पड़ता  है  क्योंकि  उस  समय  आपकी  ईयर  और  आई  मेमोरी  दोनों  काम  करती  है  मतलब  आप  उसे  सिर्फ  सुनते  ही  नहीं  है  बल्कि  देखते  भी  है  मतलब  आप  को  कल्पना  करने  कि  जरूरत  नहीं  होती  है  वह  अपने  आप  कल्पना  के  रूप  में  एक  क्रम  से  आपके  दिमाग  में  चलती  है ।

S-  Sleep  या नींद - एकाग्रता  का  सीधा  संबंध  आपकी  नींद  से  होता  है । क्योंकि  सोते  समय  भी  आपका  दिमाग  जागता  है  और  ज्यादा  से  ज्यादा  ऑक्सीजन  लेता  है  और  दिन  भर  कि  जानकारी  को  रिकार्ड  व  डिलिट  करता  है  मतलब  छाँटता  है  कौन  सी  बात  ज्यादा  महत्वपूर्ण  है  और  कौन  सी  नहीं । आपका  दिमाग  पहली  और  आखरी  बातों  को ज्यादा  अच्छे  से  याद  रखता  है । इसलिए  हमेशा  कोशिश  करे  कि  दिन  भर  पढ़ी  गई  बातों  को  सोनें  से  पहले  दोहराए  और  सुबह  उठकर  ही  कोई  कठिन  और  नया  टॉपिक  पढ़े ।

S -  Spaced learnig  पढ़ाई  के  बीच  में  अंतराल - यह  उन  स्टूडेन्ट  के  लिए  है  जो  ज्यादा  समय  तक  पढ़ना  चाहते  है । क्योंकि  जैसे - जैसे  समय  बढ़ता  चला  जाता  है  पढ़ी  गई  बातें  दिमाग  में  नहीं  जाती  है । 50  मिनट  के  बाद  हमारे  दिमाग  का  भूलने  का  चक्र  शुरू  हो  जाता  है  इसलिए  हर  50 मिनट  के  बाद  10  मिनट  का  ब्रेक  जरूर  ले  अगर  हो  सके  तो  विषय  को  भी  बदल  दे । इस  ब्रेक  टाइम  में  आप  टहल  सकते  है  चाय  कॉफी  गाने  आदि  सुन  सकते  है  बस  आपको  पढ़ाई  कि  बाते  नहीं  करनी  है । इससे  नई  ऊर्जा  आपके  अन्दर  आएगी ।

M-  Mnemonic  मतलब  सहायक  याददाश्त  और  मेमोरी - जब  भी  आप  कोई  नया  काम  करते  है  तो  आपके  दिमाग  में  उससे  समबन्धित  परिणाम  पहले  से  ही  मन  में   आ  जाते  है ।  उदाहरण - जब  हम  छोटे  थे  टीचर  ने  हमसे  सवाल  पूछाँ  हमने  खड़े  होकर  जवाब  दिया  और  वह  गलत  था  टीचर  ने  हमें  डाँटा  और  सभी  बच्चे  हँसने  लगे  तब  से  हमारे  मन  में  खड़े  होकर  बोलने  में  डर  लगने  लगा । पहली  बार  जो  आप  सोचते  है  वह  आपके  काम  पर  खास  प्रभाव  डालता  है , जो  आपकी  सफलता  में  सहायक  होता  है । अगर  आपके  मन  में  यह  धारणा  बनती  है  मैं  कर  सकता  हूँ,  तो  आपका  दिमाग  उसे  करने  के  हजारो  तरीके  ढूंढ  निकालता  है , इसकी  उल्टी  सोच  भी  इतनी  ही  सच  है ।आपको  यह  आर्टिकल  कैसा  लगा  कमेन्ट  कर  जरूर  बताए ।

अन्य  समबन्धित  लेख :- 
अमीर कैसे बने
लगन और मेहनत = सफलता
Group Discussion में सफलता कैसे पाए ?
Job interview की रणनीति
जीवन के तूफान

TAG :-
how to improve memory in hindi , 
Hindi tips for increasing your memory,
Study tips in hindi ,Hindi study tips,
 Exam Tips in Hindi,
How To Top In Exam Tips In Hindi
Exam Me Top Karne Ke tips
exam tips tricks in hindi 
Exam Study Tips in Hindi




Sunday, May 15, 2016

अमीर कैसे बने


अमीर  कैसे  बने 

हम  सभी  लोग  अपनी  जिन्दगी  में  आगे  बढ़ना  चाहते  हैं ,अमीर  बनना  चाहते  हैं । मगर  बड़ा  सवाल  यह  है  कि हम  अमीर  कैसे  बने ?

आज  मैं  इस  पोस्ट  में  आपको  कुछ  टिप्स  दूंगा , जो  आपको  अमीर  बनने  में  मदद  करेगें  । यह  टिप्स  बहुत  ही सरल  है,  लेकिन  यह  जरूरी  नहीं ,जो  सरल  हो  वह  चीजें  काम  कि  ना  हो । कभी - कभी  छोटी  चीजें  ही  बड़े परिणाम  दे  देती  है ।

आप  मानों  या  ना  मानों  एक  बात  पक्की  है, कि  आप  पहले  से  अमीर  हो । यदि  आपको  मेरी  बात  पर  भरोसा  न  हो  तो  आप  www.globalrichlist.com  पर  जा  कर , जब  आप  साल  भर  कि  अपनी  कमाई  ( इनकम ) भरेंगे । मान  लो  आप  सिर्फ  महिने  का  10,000 रूपय  कमाते  है,  इसका  मतलब  साल  का 1,20,000  रू  जब आप  भरेगें  तो  आप  पाएगें , कि  आप  दुनिया  के  पहले  20 प्रतिशत  अमीर  लोगों  में  आ  जाएगें । दुनिया  के  80 प्रतिशत  लोग  अभी  भी  आपसे  पीछे  होगें ।
How-to-Become-Rich-in-Hindi


नियम - 1
अमीर  बनने  के  लिए  सबसे  पहले  आपको  आपके  काम  करने  के  तरिके  को  बदलना  पड़ेगा  क्योंकि  " जो  अाप अभी  तक  करते  आए  है  और  वहीं  आगे  भी  करते  रहेगे,  तो  आपको  वही  मिलेगा  जो  आप  को  अभी  तक मिला  है । अगर  आपको  चाहिए  वो  जो  अभी  तक  नहीं  मिला  है,  तो  आप  करो  वो  जो  अभी  तक  नहीं  किया ।" आपको  hard wark  के  साथ - साथ  smart work  भी  करना  होगा । भले  ही  हम  सब  के  पास  एक  जैसी परिस्थितिया  न  हो  लेकिन  हम  सब  के  पास  24 घन्टे  बराबर - बराबर  है,  चाहे  वो  अमिताब बच्चन  हो , अनिल अंबानी  हो, अब्रहम लिंकन  हो  यही  24 घन्टे  का  उपयोग  तय  करते  है। आप  अभी  कहाँ  है  और  कल  कहाँ  होगें । यदि  हम  अपने  24 घन्टे  का  अच्छे  से  उपयोग  करे  तो  हम  जहाँ  पहुंचना  चाहते  है,  वहां  पहुँच  सकते  है । हमेशा  एक  बात  याद  रखिए  " shot cut  कुछ  भी  नहीं  होता  है,  हमेशा  sure cut  होता  है ।"  मेरी  टिप्स  भी sure cut  है  मतलब  यह  कोई  स्किम  या  कोई  बिजनस  आइडिया  नहीं  है , कि  मैं  आप  से  कहुँगा  कि  आप  एक  MLM कम्पनी  से  जुड़  जाए  या  आप  यह  शेयर  खरीद  ले  और  आप  रातो  रात  अमीर  बन  जाएगे ।


यह  एक  Time tested  tips  है  बड़े  से  बड़े  लोग  चाहे  वो  अंबानी  हो ,अमिताब  हो ,या  बिल गेट  हो  इन  सभी ने  अपनी  जिन्दगी  में  जूते  घिसे  है , पसीना  बहाया  है  मतलब  मेहनत  कि  है  और  तभी  जाकर  उनको  सफलता मिली  है  और  वह  अमीर  बने  है । आज  भी  वह  14 से 18  घन्टे  काम  करते  है । हमें  यह  समझना  जरूरी  है , कि हमारी  जिन्दगीं  में  जो  समय  बर्बाद  करने  वाली  चींजो  को  हमे  छोड़ना  होगा,  हो  सकता  है  वह  किसी  के  लिए what's app  हो  तो  किसी  के  लिए  Facebook , game  और  T.V.  हो  सकता  है । यह  जरूरी  है  कि  आप इन्हें  अपनी  जिन्दगी  से  हटाएं । आपको  अपनी  जिन्दगी  में  वही  काम  करना  है,  जो  आपको अधिक  से  अधिक रिजल्ट  दे " 80 प्रतिशत  हम  वो  काम  करते  है  जो  हमें  सिर्फ  20 प्रतिशत  ही  रिजल्ट  देते  है , जबकि  हमें  20 प्रतिशत  वह  काम  करने  चाहिए , जो  हमारी  जिन्दगीं  को  80 प्रतिशत  बदल  देते  हैं ।"  मैं  चाहता  हूँ  कि  आप  आज  अभी  इसी  वक्त  वह  20 प्रतिशत  कामों  कि  लिस्ट  बनाए  जो  आपको  80 प्रतिशत  रिजल्ट  दे ।  इसके  लिए आप  चाहे  तो  अपने  मोबाईल  में  एक  हर  1 घन्टे  का  अलार्म  लगा  ले  और  एक  चार्ट  बनाए , जिसमें  आपके  18 घन्टे  कि  लिस्ट  कि  सूची  हो , जब  हर  घन्टे  वह  अलार्म  बजेगा । तब  आपको  इस  चार्ट  में  अपने  पिछले  1घन्टे  के  किये  कामों  को  लिख  ले ।  ऐसा  आपको  7 दिन  तक  लगातार  करना  है , इससे  आपको  आपके  महत्वपूर्ण काम  के  बारे  में  पता  चला  जाएगा  और  आप  कहाँ  पर  समय  बर्बाद  कर  रहे  है,  वह  भी  पता  चलेगा । कभी कभी  एेसा  होगा  कि  अलार्म  बजेगा  और  आपको  हैरानी  होगी  कि  आपका  समय  कब  निकल  गया  और  आपने कुछ  किया  भी  नहीं । जब  आप  समय  का  सही  उपयोग  करेंगे  तो  आप  बाकी  लोगों  से  आगे  निकल  जाएगे  वक्त  जरूर  लगेगा,  लेकिन  सफलता  पक्की  है ।


 नियम - 2 
अपनी  गलतियों  से  सिखिए  और  आगे  बढ़ते  रहिए,  क्योंकि  " रूका  हुआ  पानी  और  ढहरा  हुआ  इंसान  दोनों  सड़  जाते  है ।" जीत  और  हार  दोनों  जिन्दगी  का  भाग  है,  " गिरना  हार  नहीं  है  गिर  कर  खड़े  न  होना  हार  है ।"  आपकी  हार  जितनी  बड़ी  होगी , आपकी  सफलता  उससे  दोगुनी  बड़ी  होगी  क्योंकि  आप  हार  कर  जीते  है  और और  " हार  कर  जीतने  वाले  को  बाजीगर  कहते  है ।" हम  सभी  ने  अपनी  जिन्दगी  में  हार  देखी  है  सफल  से सफल  लोगों  ने  भी  बड़ी - बड़ी  हार  देखी  है,  चाहे  वो  अमिताब  हो ,अब्रहम लिंकन  हो  या  फिर  थॉमस एडिसन  हो । " सफल  लोगों  कभी  हारते  नहीं  है  या  तो  जीतते  है  या  कुछ  सिखते  है " कि  हमें  क्या  नही  करना  है । हम में  से  बहुत  से  लोग  अपनी  हार  से  सिखते  नहीं  है  और  किसमत , भाग्य,  पत्नी,  ग्रह, परिस्थितियों  पर  अपनी  हार  का  दोष  डाल  देते  हैं । तो  दूसरा  नियम  यह  है  कि  हमें  कभी  भी  अपनी  हार  को  दूसरे  पर  नहीं  डालना  है ,क्योंकि  जब  आप  ऐसा  करते  हो  तो  आप  अपने  आप  को  जिम्मेदार  नहीं  समझते  हो । अपनी  जिन्दगी  कि  पूरी जिम्मेदारी  हमारी  है  और  किसी  कि  नहीं  आपनी  कमियों  को  ढूंढ  कर  उसे  सुधारे  और  आगे  बढ़े  क्योंकि  " जिंदगी  एक  नाटक  है  जिसका  मतलब  ही  है  न आटक ।"  अगर  आप  अटक  गए  तो  आपके  लिए  न  समय रूकेगा , ना  दुनिया , इसके  लिए  आपको  एक  नियम  बनाना  होगा  कि  आप  कभी  भी

दो  शब्द  नहीं  कहेगे
1 - आज  मेरा  मन  नहीं  है
2 - बहाने
जो  आपने  निश्चिय  किया  है  उसे  हर  हाल  में  करना  ही  है । जब  आप  हारते  है  तो  आपका  मन  भी  नहीं  करता और  आप  बहाने  भी  बनाने  लगते  है  अगर  आपको  अमीर  बनना  है । तो  अमीर  लोग  जिस  तरह  से  सोचते, समझते  और  काम  करते  है , आपको  भी  उसी  तरह  से  करना  है । जो  लोग  सफल ,अमीर  और  विजेता  है  उनमें  एक  बात  तो  पक्की  है । कि  उनके  पास  बहाने  नहीं  होते  है ।
Example  -  सलमान खान  अपनी  फिल्मों  कि  शूटिंग  कि  तारीख  दो  साल  पहले  से  ही  बुक  कर  देते  हैं, जहाँ पर  वह  वादा  करते  है , कि  मैं  इस  तारीख , इस  महिने  और  इस  समय  इस  जगह  पर  रहुँगा । उन्हें  नही  पता  कि उस  दिन  उनका  मन  होगा  कि  नहीं , मौसम  ,समय  और  सेहत  साथ  देगी  कि  नहीं  लेकिन  एक  बार  जब  वह  कमिटमेन्ट  कर  देते  है  तो  फिर  वह  अपने  आप  कि  भी  नहीं  सुनते  और  उसे  हर  हाल  में  पूरा  करते  है । या  फिर  वह  विराट कोहली  और  सचिन  हो  जो  अपने  पिता  के  अंतिम  संस्कार  के  बाद  भी  अगले  दिन  अपनी  टीम को  जीताने  के  लिए  खेले  और  शतक  लगा  कर  अपनी  टीम  को  हारने  से  बचाया ।  यह  सब  भी  बोल  सकते  थे आज  मेरा  मन  नहीं  है । आपकी  जिन्दगी  में  भी  चुनौतिया , परेशानी,  मुसिबते  आएगी  लेकिन  आपको  रूकना  नहीं  है ।

नियम - 3 
अपको  अपने  आप  को  अपडेट  और  अपग्रेड  रखना  है । " पढ़े  लिखे  होने  से  अच्छा  है , पढ़ते  लिखते  रहना  क्यों कि  अनपढ़ वो  नहीं  है  जो  पढ़  नहीं  पाते  अनपढ़  तो  वह  है  जो  सिखना  नहीं  चाहते  है  ।"  आपको  अपनी पर्सनल  और  प्रोफेशनल  जिन्दगी  में आगे  बढ़ने  के  लिए  समय  निकालना  चाहिए,  कुछ  नया  करने  के  लिए  और  सिखने  के  लिए  यह  बहुत  जरूरी  है , क्योंकि  आज  अपके  पास  जो  भी  नॉलेज  है "आप  उसी  तरिके  से  काम  करते  है , जो  आपको  पता  है  लेकिन जो  आपको  नहीं  पता  है ।  वह  पता  चलता  है,  पढ़ाई  से  और  आप  पढ़ाई  करते  नहीं  है , तो  आप  तजूर्बे (Experience)  को  लेकर  जिन्दगीं  जिएगे  और  तजूर्बा  आपको  जहाँ  तक  ला  सकता  था , लाकर  खड़ा  कर चुका  है।"
Example - जब  हम  स्कूल  में  जाते  थे । तब  हम 7 - 8 विषय  पढ़ते  थे  लेकिन  हमें  नहीं  पता  था,  कि  हमें  कौन से  विषय  में  आगे  बढ़ना  है । लेकिन  इतना  पता  था  कि  यह  कभी  न  कभी  तो  काम  आने  वाले  है  और  आप किस  विषय  में  मास्टरी (मास्टर डिग्री ) करेगें  । बाकी  विषय  भी  जरूरी  थे  क्योंकि  यह  सब  उस  विषय  में  मदद जरूर  करते  है , अगर  आपको  कम्पयूटर  नहीं  आता  है।  तो  उसे  सिखने  के  लिए  क्लास  में  जाए  अगर  आपको C,  C++,  Java  नहीं  आती  तो  आप  उनकी  किताबे  खरीदे  और  प्रेक्टिस  करे । मैं  भी  खुद  को  अपडेट  और अपग्रेड  करने  के  लिए  1-2 घन्टे  book, audio, video अलग - अलग  विषय  पर| अॉफिस  से  थक  कर  आने  के बाद  रोज  रात  को  1 बजे  तक  पढ़ता , सुनता और  देखता  हूँ  और  सुबह  6 बजे  जाग  कर , 8 बजे  से  6 बजे  तक अॉफिस  में  काम  करता  हूँ । आपकी  कोई  भी  उम्र  हो  सिखना  बन्द  न  करे  क्योंकि " सिखना  बंद  तो  जीतना  बंद । " हम  जो  रोज  2-3 घन्टे  what's app, facebook , और  लोगों  से  बाते  करने  में  समय  लगाते  है  उसे  कम कर  के  कुछ  नया  सिखने  में  लगाए । याद  रखिए  जब  भी  आप  अपने  Goal  के  तरफ  बढ़े  तो  आपकी प्राथमिकता  earnings  (कमाई)  पर  नहीं  learning  (पढ़ाई)  और  अनुभवों  पर  होना  चाहिए , और  जैसे - जैसे पढ़ाई  और  अनुभव  करते  है  आपकी  कीमत  बढ़ती  चली  जाती  है । जब  आप  किसी  विषय  को  10,000  से  भी ज्यादा  घन्टे  दे  देते  है  तो  फिर  आप  उस  विषय  में   genius  हो  जाते  है  और  जब  आप  उसे  20,000  घन्टे  दे देते  है  , तब  आप  Expert  बन  जाते  है  और  यही  अनुभव  जो  आपके  अलावा  किसी  और  में  नहीं  है  वह आपको  सफल, अमीर  और  महान  बनाता  है ।

नियम - 4
पैसों  का  कितना मैनेजमेन्ट - इससे  कोई  फर्क  नहीं  पड़ता  कि  आप  कमाते  कितना  है, फर्क  इससे  पड़ता  है  आप  बचाते कितना  है । यह  बहुत  जरूरी  है  कि  आप  सही  बजट  बना  कर  रखे  आपकी  आमदनी  और  खर्च  का  बजट  क्योंकि  पैसों  का  मेैनेजमेन्ट  बहुत  जरुरी  है ।
Example - kingfisher , Nokia , BlackBerry आप  कितना  भी  कमा  ले  बजट  होना  बहुत  जरूरी  है । जब आप  खर्च  का  हिसाब  करेगे  तब  आपको  पता  चलेगा  कि  आप  कहाँ - कहाँ   बिना  वजह  खर्च  और  खरीद  रहे  है जैसे  हम  online shopping  करते  है  तो  देखते  है , कि  कभी - कभी  वहाँ  पर  50% तक  छूट  होती  है  तो  हम खरीद  लेते  है  लेकिन  शायद  हमें  उस  समय  उस  चीज  कि  जरूरत  नहीं  थी । आप  सिर्फ  भावनाओ  में  आकर चीज  खरीद  लेते  है । वह  लोग  तो  हर  दिन  कुछ  न  कुछ  अॉफर  रखते  ही  रहेगें । जैसे  अगर  आप  एक  2 रू  का पेन  खरीदते  है , तो  वह  लिखने  के  काम  आता  है  अगर  क्वालिटी  चाहिए  तो  10 रू  का , लेकिन  जब  आप  एक Cross  पेन 1000 रू  का  लेते  है।  तो  वहा  आपके  पेन  के  साथ  भावना  जुड़ी  होती  है , कि  जब  में  यह  पेन  को रखूगाँ  तो  यह  अच्छा  लगेगा । जब  तक  आपके  पास  पैसे  नहीं  आ  जाते  है , आप  इस  प्रकार  कि  भावनाओ  में  न  आए  और  जरूरत  को  ध्यान  में  रखे  । जितना  ध्यान  आपका  जरूरत  पर  होगा  उतने  आपके  खर्च  कम  हो जाएगे । आपको  हमेशा  पता  होना  चाहिए  कि  आपके  पासबुक  और  पर्स  में  कितने  रूपय  है । क्या  आपको  पता है  आपके  पास  अभी  कितने  रूपय  है । मैं  आपको  एक  सलाह  देना  चाहता  हूँ  कि  जब  आप  अपने  पैसों  का बजट  बनाए  तब  आप  अलग - अलग  भागों  में  उसे  बाँट  दे  जैसे- बच्चों, परिवार, किराना, लाईफ स्टाईल  को  बेहतर बनाने  के  लिए  आदि  मैं  अपनी  इनकम  का  5  प्रतिशत  किताबों  आदि  में  लगाता  हूँ ।

नियम - 5 ( इनवेस्टमेंट )
हर  महिने  इनकम  कि  से  आप  अमीर  नहीं  बन  सकते  हैं । आप  जो  भी  कमा  रहे  है, उसे  एक  संपत्ती  में  बदले जैसे  मकान , दुकान , शेयर ,सोना, बीमा आदि  जब  आप  सो  भी  रहे  हो  या  काम  न  भी  करे  तो  भी  उसकी  कीमत  बढ़ती  जाए । क्यों  कि  जब  हमारी  जिन्दगीं  में  पैसा  आता  है  तो  खर्च  अपने  आप  बढ़  जाता  है । जैसे नया  मोबाईल, लैपटाप, कार, कपड़े ,रेस्टोरेन्ट  के  बिल  बढ़ेगें  मगर  इनसे  आपको  वापस  कितने  रूपय  आते  है शायद  बहुत  कम  अगर  आप  पैसों  को  बचा  कर  एक  लॉकर  में  10 साल  भी  रखेगें । तब  भी  वह  कम  ही  होगें क्योंकि  मंहगाई  तो  बढ़  रही  है । अगर  आप  उस  पैसो  को  कहीं  पर  लगाते  है, तब  शायद  उसकी  कीमत  10 साल  बाद  दोगुनी  हो  जाए । आप  जितनी  कम  उम्र  से  इनवेस्टमेंट  करेंगे  आप  उतनी  जल्दी  अमीर  बन  जाएगें । मैने  यह  बलॉग  को  लगभग  दो साल  पहले  शुरू  किया  था । उस  दिन  इसकी  कीमत  कुछ  भी  नहीं  थी , लेकिन आज  इसकी  पूरी  कीमत  1.5 लाख रू  कि  है । लोगों  कि  भीड़  से  बाहर  निकलने  के  लिए  अपनी  इनकम  को इनवेस्टमेंट  में  बदलिए , अगर  5 लाख  कि  कार  से  आपका  काम  हो  रहा  है , तो 15  लाख  कि  होन्डा सिटी  लेने कि  क्या  जरूरत  है। वह  10 लाख  आप  इनवेस्ट  करे  ताकि  भविष्य  में  आप  जेगुआर  ले  सके ।

नियम - 6
आपके  आस - पास  एेसे  बहुत  से  लोग  होगे  जो  आपके  रोकेगे,  टोकेगे , न  कहेगे , तुमसे  न  हो  पाएगा  मगर " ऐसे  कार्य  को  जरूर  करना  चाहिए, जिसे  लोग  सोचते  हो  की  आप  नहीं  कर  सकते।" जब  आप  सफल  हो  जाते  है तब  वहीं  लोग  आपसे  बोलेगें  कि  मैंने  तो  पहले  ही  बोला  था । तू  एक  न  एक  दिन  जरूर  कुछ  बड़ा  करेगा । एेसे लोगों  कि  चिन्ता  मत  कीजिए ।

नियम - 7 
बाँटना  (शेयर)  करना  सिखे  क्योंकि  " छोटी  सोच  और  पैरों  कि  मोच  आपको  ज्यादा  आगे  जाने  नहीं  देती " इसलिए  जरूरी  है,  आपके  आप  अगर  पैसा  और  नॉलेज  और  जो  कुछ  भी  है  उसे  शेयर  करे । आप  किसी  भी परिस्थितियों  में  शेयर  कर  सकते  है  क्योंकि  कुछ  न  होने  का  एहसास  हम  सभी  ने  कभी  न  कभी  जरूर  किया होगा । यह  बलॉग  और  IAS motivation story  फेसबुक  पेज  बनाने  के  पीछे  मेरा  एक  ही  मकसद  है  कि  मैं जो  जानता  हूं,  वह  में  लोगों  में  शेयर  करू  क्योंकि  खुशिया  बाँटने  से  बढ़ती  है ।

जब आप इन आसान नियम को अपनी जिन्दगीं में लागू करेगे तब धीरे -धीरे आपकी जिन्दगी, समाज, परिवार में बदलाव होगा ।
अन्य समबन्धित कहानी :- 
लगन और मेहनत = सफलता
सफलता कि आदतें
snapdeal, ola cab ,oyo room कि सफलता
पैरों पर खड़ा होने के लिए
वॉरेन बफेट की सफलता के मंत्र

Tag :-
Amir Banne Ke Tarike
Amir  banne ke upaye,
amir banne ke tips,
Amir Banne ke Aasan Tarike,
amir banne ke mantra
crorepati banne ke tips
dhanwan banne ke upay
amir banne ki dua
smart banne ke tarike in hindi
maldar banne ki dua
amir kaise bane app
smart banne ke tips
How to Become Rich in Hindi



Tuesday, May 3, 2016

1 से 100 पोस्ट तक का मेरा सफर



1 से 100 पोस्ट तक का मेरा  सफर 


my-blogging-journey-in-hindi

TLMOM  ब्लॉग   के  पाठको  को  TLMOM  का  नमस्कार  यह  मेरी  100 वी  पोस्ट  है   आज  मेरे  ब्लॉग  को 1 साल, 5 महीने, 4 दिन  हो  गए  है , मतलब  हर  महीने   लगभग  5.82  पोस्ट  हर  हफ्ते  1  पोस्ट  , मेरी  पहली  पोस्ट  28 नवम्बर 2014 को  TLMOM blog goal   के  नाम  से थी  इस  बीच  बहुत  सी  परेशानी  भी  आई  कभी  जॉब  के  कारण  समय  नहीं  मिल  पाता , तो  कभी  ब्लॉग  को अच्छा  बनने  के  लिए में youtube  से  वीडियो  को देख क़र  कोडिंग  करता  तो  गलती  हो  जाती  क्यों  की मुझे  टेक्निकल  नॉलेज  नहीं है तो कभी तबयत  ख़राब होने के कारण  नौकरी  छूट  गयीं  इस तरह की और भी परेशानी आई लेकिन  ब्लॉग लिखना  जारी  रखा क्यों की मै  मनता  हुँ  की अमिताभ बच्चन ने भी एक्टिंग से पहले कभी एक्टिंग की नहीं थी आशा भौसले  ने  भी  गाने  के पहले कभी गाया  नहीं  था जाकिर हुसैन ने भी तबला बजने के पहले कभी तबला बजाया नहीं था और मैंने भी ब्लॉग लिखने के पहले कभी लिखा नहीं था  और अगर आप हीरे की काबिलियत रखते हो तो अँधरे  मे  चमकना सीखो  दिन की रोशनी  मे  तो कांच  भी चमकते है 


इस  बीच  बहुत  कुछ  सीखने  को   मिला  जैसे  थोड़ा  बहुत  टेक्निकल  नॉलेज   और  ब्लॉग  लिखने  से  मेरी  प्रेरक  कहानी  और किताबे  पढ़ने  का  शौक  भी  पूरा  होता  है  और  मेरे  और  लोगो  की  अंदर  एक  सकारत्मक  बदलाव  होता  है  और  इससे  मै हर  रोज  आपने  लक्ष्य  के  पास  पहुँच  रहा  हुँ |

ऐसा  नहीं  है  की  यह  सफलता  मे  मैने  ही  पाई  है  मुझे  बहुत  से  लोगों  का  साथ  मिला  जैसे  चर्चा मंच  ब्लॉग  के  रूपचन्द्र शास्त्री मयंक  और  ब्लॉगसेतु  के  केवल राम जी , हिंदी नेट बुक  के  surendra rsdp  जी  ,seo  एक्सपर्ट  और  मेरे  पड़ोसी  राघव  जी ,उलूक टाइम  के  सुशील  जी, कविता जी , हेमा जी  और  भी  बहुत  से  लोगो  ने  मेरी  मदद  की  है  इन  सभी  को मेरा  दिल  से  धन्यवाद  आज  से  आपका  TLMOM   ब्लॉग   का   नाम    प्रेरक जगत   हो   गया  है  यह  बदलाव  जरुरी  था  । क्यों की  जो  पाठक  TLMOM  ब्लॉग  को  जानते  है  वह  तो  यूआरएल  लिख   कर  मेरे  ब्लॉग  पर  आ  जाते  थे  लेकिन  जो TLMOM  को  नहीं  जानता  था ।  उस  पाठक  को  यूआरएल  से  कुछ  समझ  नही  आता  था  की  ब्लॉग  किस  बारे  में  है |
मैं  आशा  करता  हू  कि  इस  आप  लोग  इस  ही  तरह  मुझसे  जुड़े  रहेगे  और  में  आप  के  जीवन  में  सकारात्मक  बदलाव  लाने कि  कोशिश  ब्लॉग  और  अन्य  माध्यम  से  करता  रहुँगा  |


Facebook पर मुझ से जुड़े
लगन और मेहनत = सफलता
McDonald कि सफलता का राज
सफलता कि आदतें
विपरीत परिस्थितियां

tag :-
Blogging Journey Tech Prevue, 
Blogging Journey TLMOM  blog , 
My Blogging Journey,
 Make blogging in  hindi , TLMOM startup,
 Professional blogging tips,
 Whats is blogging,
 Blogging ka safar




Monday, May 2, 2016

लगन और मेहनत = सफलता


लगन और  मेहनत = सफलता 

Inspiratinal-hindi-story-about-enthusiasm-passion-success

जापान  के  एक  छोटे  से  शहर  में  रहने  वाले  एक  छोटे  से  लड़के  को  जूडो़  सीखने  का  बहुत  शौक  था ।  लेकिन बचपन  में  एक  कार  दुर्घटना  में  उसका  बायां  हाथ  कट  जाने  के  कारण  उसके  मां-बाप  उसे  जुड़ो  सीखने  के  लिए  नहीं  भेजते  थे,  लेकिन  जैसे - जैसे  वह  बड़ा  होता  जा  रहा  था । उसकी  जिद्द  भी  बढ़ती  जा  रही  थी,  आखिरी  में  उसके  मां-बाप  को  उसकी  जिद्द  के  सामने  झुकना  पड़ा ।

वह  लड़का  जापान  के  सबसे  मशहूर  मार्शल  आर्ट  मास्टर  के  पास  जूड़ो  सीखने  गया , मास्टर  ने  जब  लड़के  को देखा  तो  उन्हें  आश्चर्य  हुआ  कि  बिना  हाथ  के  लड़का  जूडो़  कैसे  सीखना  चाहता  है । उन्होंने  पूछा  तुम्हारा  तो बायां  हाथ  ही  नहीं  है । तुम  बाकी  लड़कों  का  सामना  कैसे  करोगे ।
लड़के  ने  कहा -  " मैं  तो  बस  इतना  जानता  हूं , कि  मुझे  एक  दिन  सब  को  हराना  है  और  " सेंसेई " ( मास्टर ) बनना  है ।"  मास्टर  उसकी  सीखने  की  दृढ़ इच्छा  शक्ति  से  काफी  प्रभावित  हुए  और  बोले  कि  ठीक  है । मास्टर  ने एक  साथ  50  छात्रों  को  जूडो़  सिखाना  शुरू  कर  दिया ।

Inspiratinal-hindi-story-about-enthusiasm-passion-success
लड़का  भी  अपने  अन्य  लड़कों  की  तरह जूडो़  सीख  रहा  था   पर  कुछ  दिनों  बाद  उसने  ध्यान  दिया  कि  मास्टर   अन्य  लड़कों  को  अलग-अलग  तरीके  के  दाव - पेंच  सिखा  रहे  हैं । लेकिन  वह  अभी  भी  एक  ही ( दाव )  किक  का  अभ्यास  कर  रहा  है।  उसने  मास्टर  से  कहा - " मास्टर  आप  अन्य  लड़कों  को  नई-नई  तकनीकी  सिखा  रहे  हैं  पर  मैं  अभी  भी  बस  वही  एक  किक  मारने  का  अभ्यास  कर  रहा  हूं । क्या  मुझे  कोई  अन्य  चीजें  नहीं  सीखना चाहिए ।"  मास्टर  ने  कहा -  " तुम्हें   अभी  सिर्फ  एक  किक  का  ही  अभ्यास  करना  है ।"

लड़के  ने  सोचा  शायद  मेरा  एक  हाथ  नहीं  है। इसलिए  मास्टर  ऐसा  कह  रहे  हैं लेकिन  वह  एक  ही  किक  का अभ्यास  करता  रहा , करते-करते  6 महीने  का  समय  बीत  गया  और  वह  लड़का  उसी  किक  का  अभ्यास  करता रहा । एक  बार  फिर  लड़के  को  चिंता  होने  लगी  और  उसने  मास्टर  से  कहा  क्या  अब  भी  मैं  बस  यही  करता रहूंगा  और  बाकी  सभी  लड़के  नई-नई  तकनीकों  को  सीखते  रहेंगे ।

मास्टर  ने  कहा - अगर  तुम्हें  मुझ  पर  भरोसा  है  तो  अभ्यास  जारी  रखो। लड़के  ने  मास्टर  की  आज्ञा  का  पालन करते  हुए , बिना  किसी  और  प्रश्न  किए  हुए  किक  का  अभ्यास  जारी  रखा । 6 साल  तक  वह  उसी  किक  का अभ्यास  करता  रहा । सभी  को  जुड़ो  सीखते  हुए  6  साल  हो  चुके  थे  , तब  मास्टर  ने  सभी  शिष्यों  को  एक  साथ बुलाया  और  कहा  कि  मुझे  आपको  जो  ज्ञान  देना  था , वह  मैं  दे  चुका  हूं ।

अब  गुरुकुल  की  परंपरा  के  अनुसार  सबसे  अच्छे  शिष्य  का  चुनाव  एक  प्रतियोगिता  के  माध्यम  से  किया  जाएगा  और  जो  वह  प्रतियोगिता  को  जीतेगा  उस  शिष्य  को  " सेंसेई " ( मास्टर ) कि  उपाधि  से  सम्मानित  किया जाएगा । प्रतियोगिता  शुरु  हुई  और  मास्टर  ने  लड़के  को  उसके  पहले  मैच  में  हिस्सा  लेने  के  लिए  आवाज  दि  लड़के  ने  लड़ना  शुरू  किया  और  सबको  आश्चर्यचकित  करते  हुए  उसने  अपने  पहले  तीनों  मैच  बड़ी  आसानी  से  जीत  लिए । चौथा  मैच थोड़ा  कठिन  था  लेकिन  विरोधी  ने  कुछ  समय  के  लिए  अपना  ध्यान  हटा  दिया । लड़के  को  बस  एक  ही  मौके  की  तलाश  थी , उसने  अपनी  एक  ही  अचूक  किक  को  विरोधी  के  ऊपर  लगा  दी |

लड़का  अपनी  सफलता  से  आश्चर्यचकित  हो  गया  क्योंकि , वह  फाइनल  में  अपनी  जगह  बना  चुका  था।  फाइनल में  इस  बार  विरोधी  कहीं  अधिक  ताकतवर , अनुभवी  और  विशाल  था । विरोधी  को  देख  कर  लग  रहा  था , कि लड़का  उसके  सामने  एक   मिनट  भी  ठीक  नहीं  पाएगा । मैच  शुरु  हुआ,  तो  विरोधी  लड़के  के  ऊपर  भारी  पड़  रहा  था । रेफरी  ने  मैच  को  बीच  में  रोक  कर  विरोधी  को  विजेता  घोषित  करने  का  प्रस्ताव  रखा । लेकिन  तभी  मास्टर  ने  रेफरी  को  रोकते  हुए  कहा -  कि  नहीं  मैच  पूरा  चलेगा  मैच  फिर  शुरू  हुआ  और  विरोधी  आत्मविश्वास से  भरा  हुआ  था । और  अब  वह  लड़के  को  कम  आंकने  लगा  था  और  इसीलिए  उसने  एक  बड़ी  गलती  कर  दी  उसने  अपना  गार्ड ( कवच ) छोड़  दिया ।

लड़के  ने  इसका  फायदा  उठाते  हुए,  जिस  किक  का  उसने  6 साल  से  लगातार  प्रेक्टिस  की  थी। उसने  अपनी पूरी  ताकत  और  सटीकता  के  साथ  विरोधी  के  ऊपर  जड़  दि । उस  किक  में  इतनी  शक्ति  थी,  कि  विरोधी  वही बेहोश  हो  गया, मैच  जीतने  के  बाद  लड़का  मास्टर  के  पास  गया  और  बोला  सेंसेई  भला  मैं  इतनी  बड़ी प्रतियोगिता  सिर्फ  एक  किक  के  सहारे  कैसे  जीत  गया । बल्कि  सभी  विरोधियों  को  तो  बहुत  सारी  तकनीकी आती  थी ।

 मास्टर  ने  कहा  पहला  तुमने  जूड़ो  में  सबसे  कठिन  किक  कि  इतनी  प्रेक्टिस  कर  ली  थी,  कि  शायद  ही  दुनिया  में  कोई  और  यह  किक  को  इतनी  कुशलता,  सटीकता  और  ताकत  से  मार  पाए ! और  दूसरा  यह  कि  इस  किक से  बचने  का  एक  ही  उपाय  है , कि  सामने  वाला  विरोधी  तुम्हारे  बाएँ  हाथ  को  पकड़कर  तुम्हें  जमीन  पर  गिरा  दें  और  सामने  वाला  विरोधी  तुम्हारे  बाएँ  हाथ  को  देखता  रह  जाता  था  वह  उसे  नहीं  मिलता  था । लड़का  समझ  चुका  था  कि  उसकी  सबसे  बड़ी  कमजोरी  ही  उसकी  सबसे  बड़ी  ताकत  बन  चुकी  थी ।
अन्य  समबन्धित  कहानी 
McDonald कि सफलता का राज
Group Discussion में सफलता कैसे पाए ?
हमारी क्षमताएँ
जीवन के तूफान
आपकी कमजोरी ही ताकत हैं
TAG:-
How get success in life in Hindi, 
self development in hindi,
success tips for students
business success tips in hindi 
success tips for students in hindi
success tips in hindi 
Success rules in Hindi
Successful happy life tips in hindi
MotivationalSuccess Tips in Hindi
how to get success in life in hindi
success tips for students
business success tips in hindi 
success tips for students in hindi
success mantra tips in hindi
Hindi Story of a common man success.
The Habits of Highly Effective People in Hindi.
success tips in hindi language
story of successful person in hindi
how to success in life in hindi