Sunday, June 7, 2015

सफलता के लिए

Read interesting & moral stories, Stories Hindi,Stories in Hindi language


 सफलता  के  लिए  

Read interesting & moral stories,
 Stories Hindi,
Stories in Hindi language

read-interesting-and-moral-stories-in.html


 एक  किसान  की  घड़ी  कहीं  खो  गयी. वैसे  तो घडी  कीमती  नहीं  थी  पर  किसान  उससे  भावनात्मक  रूप से  जुड़ा हुआ  था  और  किसी  भी  तरह  उसे  वापस पाना  चाहता  था.

उसने  खुद  भी  घडी  खोजने  का  बहुत  प्रयास  किया, ..पर  तामाम  कोशिशों  के  बाद  भी  घड़ी  नहीं  मिली. उसने  निश्चय  किया  की  वो  इस  काम  में  बच्चों  की मदद  लेगा  और  उसने  आवाज  लगाई ,

” सुनो  बच्चों ,  तुममे  से  जो  कोई  भी  मेरी  खोई  घडी  खोज  देगा  उसे  मैं 500  रुपये  इनाम  में दूंगा.”

 बच्चे  जोर-शोर  से  इस  काम  में  लगा  गए… वे हर जगह  की  ख़ाक  छानने  लगे ,  ऊपर-नीचे ,  बाहर, आँगन  में .. हर जगह …पर  घंटो  बीत  जाने  पर  भी घडी  नहीं  मिली   सभी  बच्चे  हार  मान  चुके  थे  और किसान को  भी  यही  लगा  की  घड़ी  नहीं  मिलेगी, तभी  एक  लड़का  उसके  पास  आया और  बोला ,


” काका  मुझे  एक  मौका  और  दीजिये,  पर  इस  बार मैं  ये  काम  अकेले  ही  करना  चाहूँगा .”किसान  का क्या  जा  रहा  था,  उसे  तो  घडी  चाहिए  थी, उसने  तुरंत  हाँ  कर  दी .लड़का  एक-एक  कर  के  घर  के कमरों  में  जाने  लगा… और  जब  वह  किसान  के  घर  से  निकला  तो  घड़ी  उसके  हाथ  में  थी.

किसान  घड़ी  देख  प्रसन्न  हो  गया  और  अचरज  से पूछा ,”  बेटा ,कहाँ  थी  ये घड़ी , और  जहाँ हम सभी असफल  हो  गए  तुमने  इसे  कैसे  ढूंढ  निकाला ? ”लड़का  बोला,”  काका  मैंने  कुछ  नहीं  किया  बस  मैं कमरे  में  गया  और  चुप-चाप  बैठ  गया,  और  घड़ी की  आवाज़  पर  ध्यान  केन्द्रित  करने  लगा , कमरे  में शांति  होने  के  कारण  मुझे  घड़ी  की  टिक-टिक  सुनाई  दे  गयी , जिससे  मैंने  उसकी  दिशा  का  अंदाजा लगा  लिया  और  आलमारी  के  पीछे  गिरी  ये  घड़ी खोज  निकाली.

शिक्षा 

”जिस  तरह  कमरे  की  शांति  घड़ी  ढूढने  में  मददगार साबित  हुई  उसी  प्रकार  मन  की  शांति  हमें  जिंदगी की  ज़रूरी  चीजें  समझने  में  मददगार  होती  है . हर दिन  हमें  अपने  लिए  थोडा  वक़्त  निकालना  चाहिए ,जिस  मे  हम  बिलकुल  अकेले  हों , जिसमे  हम  शांति से  बैठ  कर. खुद  से  बात  कर  सकें  और  अपने भीतर  की  आवाज़  को  सुन  सकें ,तभी  हम  life जिंदगी   को और  अच्छे  ढंग  से  जी  पायेंगे .

अमीर कौन
बुराई करना आसान है
जीवन के लिए खर्च
वह तुम तक लौट के आएगा ...
क्यों करता है भारतीय समाज बेटियों की इतनी परवाह...