Sunday, June 21, 2015

सच्ची कहानी : चाय वाला "छोटू"

heart touching stories with morals in Hindi,heart touching stories and lines in hindi

सच्ची  कहानी : चाय  वाला छोटू


ये  जो  "छोटू"  होते  हैं  न ? जो  चाय  दुकानो  या होटलों  वगैरह  में  काम  करते  हैं  वास्तव  में  ये  अपने घर  के  "बड़े"  होते  हैं  कल  मे  एक  ढाबा  पर  डिनर करने  गया...

वहाँ  एक  छोटा  सा  लडका  था  जो  ग्राहको  को खाना  खिला  रहा  था  कोई  ऎ  छोटू  कह  कर  बुलाता तो  कोई  ओए  छोटू...

वो  नन्ही  सी  जान  ग्राहको  के  बीच  जैसे  उल्झ  कर रह  गयी  हो  यह  सब  मन  को  काट  रहा  था  मैने छोटू  को  छोटू  जी  कहकर  अपनी  तरफ  बुलाया। वह भी  प्यारी  सी  मुस्कान  लिये  मेरे  पास  आकर  बोला साहब  जी  क्या  खाओगे ? मैने  कहा  साहब  नही भाईयाँ  जी  बोल  तब  ही  बताऊगाँ |

 वो  भी  मुस्कुराया  और  आदर  के  साथ  बोला  भाईयाँ  जी  आप  क्या  खाओगे ? मैने  खाना  आर्डर किया  और  खाने  लगा। छोटू  जी  के  लिये  अब  मे ग्राहक  से  जैसे  मेहमान  बन  चुका  था,  वो  मेरी  एक आवाज  पर  दौडा  चला  आता  और

प्यार  से  पूछता- भाईयाँ  जी  और  क्या  लाये ...खाना अच्छा  तो  लगा  ना  आपको???

 और  मै  कहता  हाँ  छोटू  जी आपके  इस  प्यार  ने खाना  और  स्वादिष्ट  कर  दिया।खाना  खाने  के  बाद मैने  बिल  चुकाया  और 100  रू छोटूजी  की  हाथ  पर  रख  कहा  ये  तुम्हारे  है  रख  लो  और  मलिक  से मत  कहना  है।

वो  खुश  होकर  बोला  जी  भईया।फिर  मैने  पुछा  क्या करोगो  ये  पैसो  का... वो  खुशी  से  बोला  आज  माँ  के  लिये  चप्पल  ले  जाऊगाँ  4  दिन  से  माँ  के  पास चप्पल  नही  है  नग्गे  पैर  ही  चली  जाती  है  साहब लोग  के  यहाँ  बर्तन  माझने  |

उसकी  ये  बात  सुन  मेरी  आँखे  भर  आयी। मैने  पुछा घर  पर  कौन  कौन  है?तो  बोला  माँ  है, मै  और  छोटी बहन  है, पापा  भगवान  के  पास  चले  गये।मेरे  पास कहने  को  अब  कुछ  नही  रह  गया  था  मैने  उसको कुछ  पैसे  और  दिये  और  बोला  आज  आम  ले जाना।

माँ  के  लिये  और  माँ  के  लिये  अच्छी  सी  चप्पल लाकर  देना  और  बहन  और  अपने  लिये  आईसक्रीम ले  जाना  और  अगर  माँ  पुछे  किस  ने  दिया  तो  कह देना  पापा  ने  एक  भईयाँ  को  भेजा  था  वो  दे  गये।

इतना  सुन  छोटू  मुझसे  लिपट  गया  और  मैने  भी उसको  अपने  सीने  से  लगा  लिया। वास्तव  मे   छोटू अपने  घर  का  बडा  निकला  पढाई  की  उम्र  मे  घर का  उठा  रहा  है ।ऎसी  ही  ना  जाने  कितने  ही  छोटू आपको  होटल , ढाबो  या  चाय  की  दुकान  पर  काम करते  मिल  जायेगे।

आप  सभी  से  इतना  निवेदन  है  उनको  नौकर  की तरह  ना  बुलाये  थोडा  प्यार  से  कहे  आप  का  काम जल्दी  से  कर  देगें।आप  होटलो  मे  भी  तो  टिप  देते हो  तो  प्लीज  ऎसे  छोटू  जी  की  थोडी  बहुत  मदद  जरूर  करे। करके  देखिये  अच्छा  लगेगा ।