Monday, February 15, 2016

कोई भी चीज बेकार नहीं।

कोई भी चीज बेकार नहीं, Hindi Stories ,Story in Hindi | Hindi |Hindi Moral Story For Kids,hindi Best 30 Kids Stories, Kids hindi Short Stories, Popular hindi Moral Stories, Children's hindi Stories,

कोई  भी  चीज  बेकार  नहीं। 


एक  मगध  देश  का  राजा  था, उसने  अपने  सलाहकार  को  आज्ञा दी  कि  वह  इस  देश  में  इस  बात की  खोज  की  जाए  कि  कौन  से  जीव-जंतुओं  किसी  काम  का  नहीं  है। कुछ  दिन   खोज  करने  के  बाद  उन्हें  पता  चला  कि  इस  देश   में  दो  जीव  'मक्खी'  और  'मकड़ी' बिल्कुल  काम  की  नहीं  हैं।

राजा  ने  सोचा- क्यों  न  मक्खियों  और  मकड़ियों  को  खत्म  कर  दिया  जाए। इसी  बीच  राजा  पर  एक दूसरे  ताकतवर   राजा  ने  हमला  कर  दिया। युद्ध  में  मगध  देश  के  राजा  की  हार  हुई  और अपनी जान  बचाने  के  लिए  उन्हें  महल  छोड़कर  जंगल  में  जाना  पड़ा।

शत्रु  के  सैनिक  उसका  पीछा  करने  लगे। काफी  दौड़भाग  के  बाद  राजा  ने  अपनी  जान  बचाई  और थक  हार  कर  एक  पेड़  के  पास  सो  गया । तभी  एक  मक्खी  ने  उनकी  नाक  पर  डंक  मारा  जिससे राजा  की  नींद  खुल  गई। उन्हें  ख्याल  आया  कि  खुले  में  ऐसे  सोना  सुरक्षित  नहीं  है  और  वे  एक  गुफा  में  जा  छिपे। राजा  के गुफा  में  जाने  के  बाद  मकड़ियों  ने  गुफा  के  द्वार  पर  घना  जाला  बुन  दिया।

शत्रु  के  सैनिक  उन्हें  इधर - उधर   ढूंढते  हुए  गुफा  के  पास  पहुंचे। द्वार  पर  घना  जाला  देखकर सैनिक  आपस  में  कहने  लगे, 'अरे  चलो  आगे, इस  गुफा  में  अगर   राजा  आया  होता  तो  द्वार  पर  बना  यह जाला  क्या  नष्ट  न  हो  जाता।'


शिक्षा -  दुनिया  में  हर  जीव  का  मोल  है, कब  कहां  किसकी  जरूरत  पड़  जाए। गुफा  में  छिपा बैठा  राजा  ये  बातें  सुन  रहा  था। शत्रु  के  सैनिक  आगे  निकल  गए। उस  समय  राजा  की समझ  में  यह  बात  आई  कि  दुनिया  में  कोई  भी  प्राणी  या  चीज  बेकार  नहीं। अगर  मक्खी और  मकड़ी  न  होती  तो