Friday, February 5, 2016

दोस्ती

really heart touching story, short heart touching stories in Hindi heart touching short sad stories , short heart touching stories , heart touching true story, really heart touching story in hindi, heart touching stories ,

दोस्ती 


एक दिन एक वयक्ति   अस्पताल  के  कमरे  में  किसी गंभीर  बीमारी  के   साथ  लाया गया  जहाँ  एक और मरीज  खिड़की   के  पास आराम   कर  रहा  था ।  धीरे - धीरे  उनमे  दोस्ती   हो  गयी और  खिड़की  के   पास  वाला  रोगी  रोज खिड़की  से  बाहर  देखता  और  उसके   बाद  कुछ   घन्टे  वह  अपने  बीमार  साथी  को  बाहर  की  दुनिया  की  करते  हुए  बिताता।

 किसी  दिन   वह अस्पताल  के दूसरी  तरफ  क़े  पार्क  में  लगे  पेङ  के  हवा  के  झोंको  के  साथ  झूमने  की   सुंदरता  के  बारे  में  बताता  था ।  किसी  और   दिन  वह  अपने  दोस्त  का  मनोरजंन  उन  लोगो  की  बात  बताकर  करता  जो  सामने   से  निकलते  थे । 

जैस - जैसे  समय  बीतता गया  वह  रोगी  जो  बिस्तर  से  नहीं  उठ  पता  था   वह आपने  दोस्त  के   बतलाए  जाने  वाले दर्शयों  को  ना देख  पाने  की  असमर्थता  से  परेशान  हो  उठा ।वह  उसे  नापसंद  करने  लगा    धीरे -धीरे  उसकी  नफरत  बदले  में  बदल  ग़ई । 

 एक रात  खिड़की  के   पास  वाले  मरीज  को  खासी  का  दौरा  पड़ा  और  उसने  सास  लेना  बंद  कर  दिया  । सहायता  बुलाने  के   बटन  दबाने  के  बजाए  दूसरा  मरीज  पड़ा  रहा ।  दूसरी  सुबह  वह  रोगी  जिसने   अपने  दोस्त  को  खिड़की  से  झांकते  हुए  दृश्यों  का  ब्योरा  देकर  बहुत  सी  खुशी   दी  थी ,  उसे  मृत  घोषित  कर  दिया  गया ।  दूसरे  मरीज़  ने  जल्दी  ही  अपना  बिस्तर  खिड़की  के  पास  लगवा  लिया  । पर  जैसे  ही उसने  खिड़की  के  बाहर  देखा बाहर  के  दृश्य  ने  उसे  हेिला  दिया । खिड़की  के  सामने ईंट  की  दीवार  थी । 

मृत मरीज़  ने  उसके  मुश्किल  समय  को  खुशहाल  बनाने  के  काल्पनिक  दृश्यों  का  जाल  बुना  था । यह  कहानी ,  मै  जितनी  बार इसके  बारे  में  सोचता  हूँ  मरे  अपने दृष्टिकोण   और  सोच  को  एक  नई  दिशा  में  ले  जाती  है ।  जीवन  जीने  के  लिए  हमे  मुश्किल  समय  में  अपनी  सोच  को लगातार   बदलने  की  कोशिश  करनी  चाहिये ॥