Tuesday, February 23, 2016

छठवीं पीढ़ी की सोच

छठवीं पीढ़ी की सोच,Prernadayak Kahaniya In Hindi & Best Hindi Kahaniya Collection With Moral

 छठवीं पीढ़ी की सोच



एक  शहर  में  एक  अमीर  आदमी  रहता  था । वह  दिन  भर  खूब  काम  व  मेहनत  करता  था । एक  दिन  उसने  अपने  वकील  को  बुलाकर  कहा, 'पता  करो  मेरे  पास  कितनी  सम्पति  है  और  कब तक  के  लिए  पर्याप्त  है?'

कुछ  हफ्ते  बाद  वकील  हिसाब  किताब   लेकर  आया  और  अमीर  आदमी  से  बोला, 'जिस  हिसाब  से  हम  आज  तक  खर्चा  कर  रहा  है, उस  तरह  अगर  आज  से  कोई  भी  कमाई  और  ऱूपय  न  भी  हो  तो आपकी  आने  वाली पाँच  पीढ़ियां  खा  सकती  हैं।' अमीर  आदमी  चौंक पड़ा  और  पूछा, 'तब  छठवीं  पीढ़ी  का  क्या  होगा?'

अमीर  आदमी   सोचने  लगा  और  तनाव  में  आ  गया ,और  फिर  बीमार  रहने  लगा । बहुत  इलाज  कराया  मगर  कुछ  फायदा  नहीं  हुआ ।एक  दिन  अमीर  आदमी  का  दोस्त  उसका  हालचाल  पूछने  आया। अमीर  बोले,  'इतना  पैसा  कमाया  फिर  भी  छठवीं  पीढ़ी  के  लिए  कुछ  नहीं  है।

 दोस्त  बोला,  'एक  पंडित  जी  थोड़ी  ही  दूर  पर  रहते  है  अगर  तुम  उन्हें सुबह - सुबह  को  खाना  खिलाओ  तो शायद  तुम्हारी  बीमारी  ठीक  भी  हो  जाएगा।' अगली  सुबह  ही  अमीर  आदमी  भोजन  लेकर  पंडित  जी  के  पास पहुंचा। पंडित  जी  ने  बहुत  आदर  के  साथ  बैठाया।  फिर  उन्होने  अपनी  पत्नी  को  आवाज  दी, 'सेठ  जी  खाना लेकर  आए  हैं।

इस  पर  पंडित  जी  की  पत्नी  ने  कहा , खाना  तो  हमें  कोई  और  भी  दे  गया  है। पंडित  जी  ने  कहा, 'सेठ  जी, अब  तो  आज  का  खाना  कोई  दे  गया  है। इसलिए  मैं  आपका  भोजन  स्वीकार  नहीं  कर  सकते। हमारा एक  नियम है  कि  सुबह  जो  आदमी  एक  समय  का  खाना  पहले  दे  कर  जाए, हम  उसे  ही  स्वीकार  करते  हैं।आप  मुझे  माफ  करना। आदमी  बोला , क्या  मैं  कल  के  लिए भोजन  ले  आऊं?

पंडित  जी  बोले, हम   लोग  कल  के  लिए  आज  से  ही  नहीं  सोचते। कल  आएगा,  तो  भगवान  अपने  आप  भोजन भेज  देगा।अमीर  आदमी  घर  के  तरफ  चल पड़ा  और  रास्ते  भर  वह  सोचने  लगा  कि  कैसा  आदमी  है  यह। इसे आने  वाले  कल  की  बिल्कुल  चिंता  नहीं  है  और  मैं  अपनी  छठवीं  पीढ़ी  को  लेकर  सोच  रहा  हूं। उनकी  आंखें खुल  गईं। अमीर  आदमी  ने  सारी  चिंता  छोड़कर  सुख  से  रहने  लगा ।