Thursday, February 11, 2016

आन्तरिक प्रेरणा

आन्तरिक प्रेरणा हिन्दी कहानी संग्रह, hindi kahani hindi kahaniya hindi kahaniyan for kids free hindi kahani sangrah hindi kahani pdf kahani sangrah mansarovar kahani sangrah

आन्तरिक  प्रेरणा


एक  लड़का  रोज  क्रिकेट  खेलने  की  प्रैक्टिस  करने  लगातार   जाता  था ,  लेकिन  वह  कभी  टीम  में   शामिल  नहीं  हो  सका ।  जब  वह  प्रैक्टिस  करता  था , तो  उसके  पिता  मैदान  के  किनारे  बैठ  कर  उसका  इंतजार  करते  रहते  थे । सीरीज  मैच  शुरू  हुए  तो  वह  लड़का  सात  दिन  तक  प्रैक्टिस  करने  नहीं  आया । वह  क्वार्टर  और  सेमीफाइनल  मैच  मे  भी  नहीं  आया ।

लेकिन  वह  लड़का  फाइनल  मैच  के  दिन  आया  और  उसने  कोच  के  पास  जाकर  कहा , आप  ने  मुझे  हमेशा  रिजर्व  खिलाड़ियो  मे  रखा  और  कभी  टीम  में  खेलने  नहीं  दिया , लेकिन  कृपा  करके  आज  मुझे  खेलने  दें।  कोच  ने  कहा  बेटा  मुझे  दु:ख  है  कि  मै  तुमको  यह  मौका  नहीं  दें  सकता ।  टीम  में  तुम  से  भी  अच्छे  खिलाड़ी  हैं । इसके  अलावा  यह  फाइनल  मैच  है । स्कूल  की  इज्जत  दाव  पर  लगी  है ।

लड़के  ने  मिन्नते  करते  हुए  कहा,  सर  मै  आपसे  वादा  करता  हूँ  कि  मै  आपके  विश्वास  को  नहीं  तोडूँगा  आप  मुझे  खेलने  का  मौका  दें।  कोच ने कहा -  ठीक  है  बेटा  जाओ  खेलो , पर  मुझे  शर्मिदा  मत  करना । मैच  शुरू  हुआ  और  लड़का  तूफान  की   तरह  खेला ।  कहना  न  होगा  कि  वह  मैच  का  हीरो  बन  गया ।  उसकी  टीम  को  शानदार  जीत  मिली ।

खेल  खत्म  होने  के  बाद  कोच  ने  उस  लड़के  के  पास  जाकर  कहा ,  बेटा  मैं  इतना  गलत  कैसे  हो  सकता  हूँ ? मैने  तुम्हे  कभी  इस  चरह  खेलते  नहीं  देखा , तुम  इतना  अच्छा  कैसे  खेले  ? लड़के  ने  कहा -  कोच  आज  मुझे  मेरे  पिताजी  खेलते  देख  रहे  थे। कोच  ने  उस  जगह  को  देखा  जहाँ  उसके  पिता  बैठा  करते  थे, लेकिन  वहा  कोई  नहीं  था । कोच  ने  कहा  -  आज  वहाँ  पर  कोई  नहीं  बैठा  है ।  लड़के ने  कहा - कोच  मैने  आपको  यह  कभी  नहीं  बताया  कि  मेरे  पिताजी  अन्धे  थे । चार  दिन  पहले  उनकी  मृत्यु  हो  गई । अाज  वह  मुझे  ऊपर  से  देख  रहे  हैं ।