Sunday, February 14, 2016

बुद्धि की दुकान

बुद्धि की दुकान,Hindi kahani, The Best Hindi Blogs, ज़िन्दगी, हिन्दी कहानी संग्रह, शिक्षाप्रद कहानियाँ,Kahani in Hindi with Motivation, Kahaniyan in

बुद्धि की दुकान

एक था  बुद्धि और  बुद्धि  में  भी  उसका  सामना  कोई  नहीं  कर  सकता  था। उसने  अपने  घर  के  बाहर बड़े-बड़े  अक्षरों  में  लिखा- 'यहां  बुद्धि  मिलती  है।'उसका  घर  बाजार  के  पास  था। हर  आने-जाने  वाला  वहां  से  जरूर  गुजरता  था।

एक  दिन  एक  अमीर  आदमी  का  बेटा  वहां  से  गुजरा। दुकान  देखकर  उससे  रहा  नहीं  गया। उसने अंदर  जाकर  बुद्धि  से  पूछा- 'यहां  कैसी  अक्ल  मिलती  है  और  उसकी  कीमत  क्या  है? '

बुद्धि  ने  कहा- 'यह  इस  बात  पर  निर्भर  करता  है  कि  तुम  इस  पर  कितना  पैसा  खर्च  कर  सकते हो।'लड़के  ने  जेब  से  दस  रुपया  निकालकर  पूछा- 'इस  दस  रुपए  के  बदले  कौन-सी  बुद्धि  मिलेगी  और कितनी?''भई,  दस  रुपए  की  बुद्धि  से  तुम  एक  लाख  रुपया  बचा  सकते  हो।'
लड़के  ने  दस  रुपया  दे  दिया। बदले  में  बुद्धि  ने  एक  कागज  पर  लिखकर  दिया- 'जहां  दो  आदमी लड़-झगड़  रहे  हों,  वहां  खड़े  मत  रहना  है।'

लड़का  अपने  घर  पहुंचा  और  उसने  अपने  पिता  को  कागज दिखाया। कंजूस  पिता  ने  कागज  पढ़ा तो  वह  गुस्सा  हो  गया। लड़के  को  कोसते  हुए  वह  पहुंचा  बुद्धि  की  दुकान। कागज  की  पर्ची  बुद्धि  के  सामने  फेंकते  हुए  चिल्लाया- 'वह  दस  रुपया  लौटा  दो, जो  मेरे  बेटे  ने  तुम्हें  दिया  था।'
बुद्धि  ने  कहा- 'ठीक  है, लौटा  देता  हूं। लेकिन  शर्त  यह  है  कि  तुम्हारा  बेटा  मेरी  सलाह  पर  कभी अमल  नहीं  करेगा।' कंजूस  आदमी  के  वादा  करने  पर  बुद्धि  ने  दस  रुपया  वापस  कर  दिया।

उस  नगर  के  राजा  की  दो  रानियां  थीं। एक  दिन  राजा  अपनी  रानियों  के  साथ  बाजार  से  गुजरा। दोनों  रानियों  को  हीरों  का  एक  हार  पसंद  आ  गया। दोनों  ने  सोचा- 'महल  पहुंचकर  अपनी  दासी  को  भेजकर  हार  मंगवा  लेंगी।' संयोग  से  दोनों  दा‍सियां  एक  ही  समय  पर  हार  लेने  पहुंचीं। बड़ी रानी  की  दासी  बोली- 'मैं  बड़ी  रानी  की  सेवा  करती  हूं  इसलिए  हार  मैं  लेकर  जाऊंगी'
दूसरी  बोली- 'पर  राजा  तो  छोटी  रानी  को  ज्यादा  प्यार  करते  हैं, इसलिए  हार  पर  मेरा  हक  है।'

लड़का  उसी  दुकान  के  पास  खड़ा  था। उसने  दासियों  को  लड़ते  हुए  देखा !  दोनों  दासियों  ने  कहा- 'वे  अपनी  रानियों  से  शिकायत  करेंगी।' जब  बिना  फैसले  के  वे  दोनों  जा  रही  थीं  तब  उन्होंने  लड़के  को  देखा। दासी  बोलीं- यहां  जो  कुछ  हुआ  तुम  उसके  गवाह  रहना।'
दासियों  ने  रानी  से  और  रानियों  ने  राजा  से  शिकायत  की। राजा  ने  दासियों  की  खबर  ली। दासियों ने  कहा- 'उस  लड़के  से  पूछ  लो  वह  वहीं  पर  मौजूद  था।'

राजा  ने  कहा- 'बुलाओ  लड़के  को  गवाही  के  लिए, कल  ही  झगड़े  का  निपटारा  होगा।'
इधर  लड़का  हैरान, पिता  परेशान। ‍आखिर  दोनों  पहुंचे  बुद्धि  की  दुकान। माफी  मांगी  और  मदद  भी।

बुद्धि  ने  कहा- 'मदद  तो  मैं  कर  दूं  पर  अब  जो  मैं  बुद्धि  दूंगा, उसकी  ‍कीमत  है  एक  हजार  रुपए।


 कंजूस  पिता  ने  रोते  हुए  एक  हजार  दिए। बुद्धि  ने  अकल  दी  कि  गवाही  के  समय  लड़का  पागलपन  का  नाटक  करें  और  दासियों  के  विरुद्ध  कुछ  न  कहे।

अगले  दिन  लड़का  पहुंचा  दरबार  में। करने  लगा  पागलों  जैसी  हरकतें। राजा  ने  उसे  वापस  भेज दिया  और  कहा- 'पागल  की  गवाही  पर  भरोसा  नहीं  कर  सकते।'
गवाही  के  अभाव  में  राजा  ने  आदेश  दिया- 'दोनों  रानी  अपनी  दासियों  को  सजा  दें, क्योंकि  यह  पता  लगाना  बहुत  ही  मुश्किल  है  कि  झगड़ा  किसने  शुरू  किया।'
बड़ी  रानी  तो  बड़ी  खुश  हुई। छोटी  को  बहुत  गुस्सा  आया।

लड़के  को  पता  चला  कि  छोटी  रानी  उससे  नाराज  हैं  तो  वह  फिर  अपनी  सुरक्षा  के  लिए  परेशान हो  गया। फिर  पहुंचा  बुद्धि  की  दुकान। बुद्धि  ने  कहा- 'इस  बार  अकल  की  कीमत  दस  हजार  रुपए।'
पैसे  लेकर  बुद्धि  बोला- 'एक  ही  रास्ता  है, तुम  वह  हार  खरीद  कर  छोटी  रानी  को  उपहार  में  दे  दो।'
लड़का  बोला- 'अरे  ऐसा  कैसे  हो  सकता  है? उसकी  कीमत  तो  एक  लाख  रुपए  है।'
बुद्धि  बोला- 'कहा  था  ना  उस  दिन  जब  तुम  पहली  बार  आए  थे  कि  दस  रुपए  की  बुद्धि  से  तुम  एक  लाख  रुपए  बचा  सकते  हो।'फिर  लड़के  को हार  खरीद  कर भेंट  करना  पड़ा, और  कंजूस  पिता  सिर  पीटकर  रह  गया।