Wednesday, February 17, 2016

शक्ति का सही उपयोग

शक्ति का सही उपयोग Best top 10 hindi hindi kathayen hindi katha sahitya hindi katha sangrah hindi katha sagar shiv mahapuran hindi katha hindi katha of satyanarayan hindi katha pdf

शक्ति का सही उपयोग


एक  बार  एक  पहलवान  आदमी  एक  बड़ा  बैग  लेकर  ऱेल्वे स्टेशन  पर  उतरा। वह आदमी  रेल्वे स्टेशन  से बाहर  निकला  और  अपने  लिए  रिक्शा  ढूढ़ने  लगा। सामने  ही  एक  रिक्शावाला  खड़ा  था।

उस  पहलवान  आदमी  ने  रिक्शावाले  से  कहा  पंचानन  भवन  जाना  है, कितना  रूपय  लोगे?
रिक्शावाला  बोला - 50 रु.  लगेंगे।

उस  आदमी  ने  होशियारी  दिखाते  हुए  कहा- इतने  पास  के  50  रु., यह  क्या  लूटपाट  मचा  कर  रखी है। मैं  पैदल  ही  अपना  बैग  लेकर  पंचानन  भवन  तक  चला  जाऊंगा।

पहलवान  भी  जिद्दी  था और  इसीलिए  उसने  अपना  बैग  उठाया  और  पैदल  ही  चलने  लगा। आधे  घंटे  तक  चलने  के  बाद  पहलवान  को  फिर  से  वही  रिक्शा  वाला  दिखा ।

उसने  रिक्शा  वाले  को  रोका  और  कहा  कि  अब  तो  आधी  दूरी तक  मैं  आ  चुका हूँ , अब  कितना रूपय  लोगे ? रिक्शा वाला  बोला  अब तो  100  रु.  लगेंगे। पहलवान  हैरान  रह  गया  और  उसने  पूछा कि  पहले  50 रूपय  लग  रहे  थे और  अब  100  क्यों  लगेंगे?

रिक्शा वाले  ने  फट  से  बोला  महोदय  आप  पंचानन भवन  से  ठीक  उल्टी  दिशा  में  3 किलोमीटर  दूर आ  गए  हैं। पंचानन  भवन  रेल्वे  स्टेशन  के  दूसरी  तरफ  है। उस  पहलवान  ने  इसके  बाद  कुछ  नहीं कहा  और  चुपचाप  रिक्शा  में  बैठ  गया।

शिक्षा -  सिर्फ  ज्ञान  होने  से  कुछ  नहीं  होता  बल्कि  ज्ञान  के  साथ  विवेक  भी  जरूरी  है। इसी  तरह सिर्फ  शक्ति  होना  पर्याप्त  नहीं  है  बल्कि  शक्ति  का  सही  उपयोग  भी  जरूरी  हैं ।