Wednesday, February 10, 2016

एक गिलास दूध

एक गिलास दूध hindi short stories in hindi language with morals,really heart touching story, short heart touching stories in Hindi heart touching short sad stories , short heart touching stories , heart touching true story,

एक  गिलास  दूध 


एक  बार  एक  लड़का  अपने  स्कूल  की  फीस  भरने  के  लिए  एक  दरवाजे  से  दूसरे  दरवाजे  तक  खिलौने  बेचा करता  था, एक  दिन  उसका  कोई  खिलौना  नहीं  बिका  और  उसे  बड़े  जोर  से  भूख  भी  लग  रही  थी. उसने  सोचा   कि  अब  वह  जिस भी  घर  पर  जायेगा, उससे  खाना  मांग  लेगा ..पहला  दरवाजा  खटखटाते  ही  एक  औरत  ने दरवाजा  खोला, जिसे  देखकर  वह  घबरा  गया  और  बजाय  खाने  के  उसने  पानी  का  एक  गिलास  माँगा .

औरत  ने  भांप  लिया  था  कि वह भूखा है, इसलिए  वह  एक  बड़ा  गिलास  दूध  का  ले आई. लड़के  ने  धीरे-धीरे  दूध पी  लिया .कितने  पैसे  दूं? लड़के  ने  पूछा.पैसे  किस  बात  के? औरत  ने  जवाव  में  कहा.
औरत  बोली  - माँ  ने  मुझे  सिखाया  है  कि जब  भी  किसी  पर  दया  करो  तो  उससे  पैसे  नहीं  लेने  चाहिए. तो  फिर  मैं  आपको  दिल  से  धन्यवाद  देता  हूँ. जैसे  ही  उस  लड़के  ने  वह  घर  छोड़ा ,उसे  न  केवल  शारीरिक  तौर  पर शक्ति  मिल  चुकी  थी, बल्कि  उसका  भगवान  और  आदमी  पर  भरोसा और  भी  बढ़  गया  था .

सालों  बाद  वह  औरत  गंभीर  रूप  से  बीमार  पड़  गयी. लोकल  डॉक्टर  ने  उसे  शहर  के  बड़े  अस्पताल  में  इलाज के  लिए  भेज  दिया .विशेषज्ञ  डॉक्टर  होवार्ड  केल्ली  को  मरीज  देखने  के  लिए  बुलाया  गया. जैसे  ही  उसने  औरत के  शहर  का  नाम  सुना, उसकी  आँखों  में  चमक  आ  गयी .वह  एकदम  सीट  से  उठा  और  उस  औरत  के  कमरे  में गया. उसने  उस  औरत  को  देखा, एकदम  पहचान  लिया और  सोच  लिया  कि  वह  उसकी  जान  बचाने  के  लिए जमीन-आसमान  एक  कर  देगा .

उसकी  मेहनत  और  लग्न  रंग  लायी  और  उस  औरत  कि  जान  बच  गयी. डॉक्टर  ने  अस्पताल  के  ऑफिस  में  जा कर  उस  औरत  के  इलाज  का  बिल  दिया .उस  बिल  के  कौने  में  एक  नोट  लिखा  और  उसे  उस  औरत  के  पास भिजवा  दिया.औरत  बिल  का  लिफाफा  देखकर  घबरा  गयी .उसे  मालूम  था  कि  वह  बीमारी  से  तो  वह  बच  गयी है  लेकिन  बिल  कि  रकम  जरूर  उसकी  जान  ले  लेगी .

 उसने  धीरे  से  बिल  खोला, रकम  को  देखा  और  फिर  अचानक  उसकी  नज़र  बिल  के  कौने  में  पैन  से  लिखे  नोट पर  गयी .जहाँ  लिखा  था, एक  गिलास  दूध  द्वारा  इस  बिल  का  भुगतान  किया  जा  चुका  है .नीचे  उस  नेक  डॉक्टर होवार्ड  केल्ली  के  हस्ताक्षर  थे  ख़ुशी और  अचम्भे  से  उस  औरत  के  गालों  पर  आंसू  टपक  पड़े  उसने  ऊपर  कि और  दोनों  हाथ  उठा  कर  कहा, हे  भगवान ..!

आपका  बहुत-बहुत  धन्यवाद . आपका  प्यार  इंसानों  के  दिलों  और  हाथों  के  द्वारा  न  जाने  कहाँ- कहाँ  फैल  चुका है. अगर  आप  दूसरों  पर .अच्छाई  करोगे  तो आपके  साथ  भी अच्छा  ही  होगा .. !!

 आप  इस सच्ची  कहानी  को  शेयर  करके  इस  सन्देश  को  हर  जगह  पहुंचाएँ .