Sunday, February 7, 2016

युवा तेज गेंदबाज नाथू सिंह

राजस्थान के युवा तेज गेंदबाज नाथू सिंह Nathu Singh Cricket Great Moral Stories in Hindi Language Be Positive Kids Educational Stories Great Motivation Story Hindi.

राजस्थान  के  युवा  तेज  गेंदबाज  नाथू सिंह

आईपीएल  के  सीजन  9  में  राजस्थान  के  युवा  तेज  गेंदबाज  नाथू सिंह  को  मुंबई  इंडियंस. ने 3.20 करोड़  रुपए  में खरीद  लिया  है। नाथू सिंह  एक  बेहद  गरीब  परिवार  से  आते  हैं  और  उन्होंने  कड़े  संघर्ष   के   बाद  यह  मुकाम आया  है।  रणजी  मैच  में  खेलने  के  लिए  उन्हें  अपने  सीनियर  खिलाड़ियों  से  जूते  उधार  लेने  पड़े।.लगभग  साढ़े तीन  साल  पहले  तक  नाथू  गली-मोहल्लों  में  खेला  करते  थे।


टोंक  जिले  के  नाथू  के  पिता  भरत सिंह  पहले  खेती  करते  थे  लेकिन  इससे  गुजारा  नहीं  हुआ  तो  वायर  फैक्ट्री  में  काम  करने  लगे। उन्हें  सात  हजार  रूपये  महीना  सैलरी  मिलती  है।  जब  पिता  काम  पर  निकल  जाते  थे तो वह  खेलने  जाता  थे। एक  भैया  ने  उसे  बड़े  स्तर  पर  खेलने  को  कहा,  इस  पर  उन्होंने  सुराणा  एकेडमी  में एडमिशन  लेने  का  सोचा।इस  एकेडमी  में  खेलने  के  लिए  10 हजार  रूपये  की  जरूरत  थी  लेकिन  नाथू  के  पिता के  पास  इतने  पैसे  नहीं  थे  तो  उन्होंने  दो  महीने  के  लिए  ही  नाथू  का  एडमिशन  कराया। दो  महीने  बाद  एकेडमी के  कोच  और  नाथू  के  मामोसा (मां का भाई)  ने  कहा  कि  उसे  और  समय  देना  चाहिए  क्योंकि  उसमें  काबिलियत है।

 नाथू  के  आर्थिक  हालातों  को  देखते  हुए  एकेडमी  ने  फीस  कम  कर  दी  और  सालभर  के  अंत  तक  उसे राजस्थान  अंडर-19  टीम  में  जगह  मिल  गई।.इसके  बाद  वह  एमआरएफ  पेस  एकेडमी  में  गए  जहां  पर  ग्लेन मैक्ग्राथ  भी  नाथू  की  रफ्तार  से  काफी  प्रभावित  हुए।  ग्लेन मैक्ग्राथ  ने  भी  उनकी  तारीफ  की  और  कहाकि  वह भारत  का  भविष्य  है। दो  साल  पहले  नाथू  को  जब  पहली  बार  मैच  फीस  मिली  तो  उन्होंने  सारी  फीस  अपने माता-पिता  को  दे  दी। वे  अब  भी  अपनी  सारी  मैच. फीस  अपनी  मां  को  ही  देते  हैं।

 नाथू  ने  अपनी  बांह  पर  एक  टैटू  भी  बना  रखा  है  जिस  पर  "माता-पिता"  लिखा  हुआ  है।.नाथू  के  बारे  में  राहुल द्रविड़  ने  राजस्थान  क्रिकेट  के  कन्वेनर  अमृत माथुर  को  फोन  कर  कहा  था  कि, यह  लड़का अच्छा  है  इस पर  नजर  रखना। दिल्ली  के  खिलाफ  मैच  में  शानदार  प्रदर्शन  के  बाद  दिल्ली  के  कोच  विजय दहिया  ने  माथुर  को  बताया  कि  गौतम  गंभीर  को  इस  लड़के  में  काबिलियत  दिखी।   कई  सालों  बाद  उसे  भारत  की  ओर  से खेलने  लायक  खिलाड़ी  दिखा  है।

.रणजी  टीम  में  जाने  के  लिए  नाथू  को  जिला  टीम  में  खेलने  की  जरूरत  थी  लेकिन  उन्हें  जयपुर टीम  में  जगह नहीं  मिली  और  सीकर  की  ओर  से  खेलना  पड़ा। नाथू  की  सबसे  बड़ी  खासियत  है उनकी  स्पीड। नाथू  140 किलोमीटर  प्रतिघंटे  से  ऊपर  गेंद  डालते  हैं और  हाल  ही  में  उन्होंने 145 की  स्पीड  की  गेंद  डाली  थी।नाथू  का जब  बोर्ड  प्रेसीडेंट  एकादश  में  चयन  हुआ  तो  उन्हें  विश्वास  नहीं  हुआ।  एक  साथी  क्रिकेटर  ने  फोन  कर  बधाई दी  तो  मैंने  पूछा  किसलिए ?उसने  मुझे  मेरे  चयन  के  बारे  में  बताया  तो  मैंने  कहा  मजाक  मत  कर। इसके  बाद मैंने  इंटरनेट  सर्च  किया  और  टीम  में  मेरा  नाम  देखा  तो  विश्वास  नहीं  हुआ।.

नाथू  ने  अपने  पहले  ही  मैच  में  आठ  विकेट  लिए  थे। दिल्ली  के  खिलाफ  मैच में  पहली  पारी  में  उन्हें  केवल एक विकेट  मिला  लेकिन  दूसरी  पारी  में  राजस्थान  की  ओर  से  वे  ही  दिल्ली  पर  पलटवार  कर  पाए। दूसरे  चेंज  के रूप  में  गेंदबाजी  करने  वाले  दाएं  हाथ. के  इस  तेज  गेंदबाज  ने  गौतम  गंभीर और  उन्मुक्तचंद  जैसे  सितारा  बल्लेबाजों  समेत  सात  विकेट  लिए। इसके  लिए  उन्होंने  लगभग  32 ओवर  में  केवल  87 रन  खर्च  किए।.  वे  दुनिया  के  सबसे  तेज  गेंदबाज  बनना  चाहते  हैं। उन्होंने  कहा  कि  मेरी  सबसे  बड़ी  ताकत  है पेस। मैं  औसतन 140  से  ऊपर  की  रफ्तार  से  गेंद  डालता हूं और  चाहता  हूं  कि  दुनिया  का  सबसे  तेज  गेंदबाज  बनू।