Thursday, February 18, 2016

स्वामी विवेकानन्द : मन की स्थिति

स्वामी विवेकानन्द : मन की स्थिति swami vivekananda thoughts in Hindi Hindi swami vivekananda quotes swami vivekananda in hindi swami vivekananda books Hindi swami vivekananda speech life and philosophy of swami vivekananda swami vivekananda biography Hindi stories of vivekananda

स्वामी विवेकानन्द : मन की स्थिति


स्वामी  विवेकानन्द  एक  बार  अपने  एक  शिष्य  के  साथ आश्रम  जा  रहे  थे। जंगल  में  बहुत  देर  चलने  के  बाद  एक  पेड़   के  नीचे  बैठ  गए  और  उन्हें  जोर  की  प्यास  लगी ।शिष्य  पास  की  पहाड़ी  पर  झरने  का  पानी  लेने  गया, लेकिन  झरने  से  अभी-अभी  कुछ  हिरण  दौड़कर  निकले  थे  जिससे  झरने  का  पानी  गंदा  हो गया  था। हिरणो  की  भाग-दौड़  से  झरने  के  पानी  में  कीचड़  ही  कीचड़  हो  गयी  थी । गंदा  पानी  देखकर  शिष्य  पानी  बिना लिए  वापस आ  गया ।

उसने  स्वामी  विवेकानन्द  से  कहा  कि  झरने  का  पानी  साफ  नहीं  है, मैंहो  फिर  से  पीछे  वाली  नदी  से  पानी  ले आता  हूं। लेकिन  नदी  बहुत  ज्यादा  दूर  थी  इसलिए  स्वामी विवेकानन्द  ने  उसे  फिर  से झरने  का  पानी  ही  लाने  के  लिए  लौटा  दिया। शिष्य  थोड़ी  देर  बाद  फिर  खाली हाथ  ही  लौट  आया। पानी  अभी  भी  गंदा  था  पर  स्वामी  विवेकानन्द  ने  उसे  इस  बार  भी  वापस  लौटा  दिया। कुछ  देर  बार  जब  तीसरी  बार  शिष्य  झरने  पर  पहुंचा, तो देखा  कि  झरना  अब  पूरा   निर्मल  और  शांत  हो  गया  था, कीचड़  बैठ  गयी  थी  और  पानी  बिलकुल  साफ  हो गया था।

शिक्षा -  स्वामी विवेकानन्द  ने  उसे  समझाया  कि  यही  स्थिति  हमारे  मन  की  भी  है। जीवन  की  दौड़-भाग वाली जिन्दगी  कि  परेशानी  मन  को  परेशान  हताश  और  निराश  कर  देती  है। पर  यदि  कोई  शांति  और  आराम  से  उसे  बैठा  देखता और समझता है , तो  परेशानी  अपने  आप  खत्म  या कम  हो  जाता  है  और  उसका हल  हो  जाता  है।