Friday, February 19, 2016

सपनों की उड़ान

सपनों की उड़ान,motivational stories for students to work hard in hind motivational stories in hindi for students motivational stories in hindi for Big Dreams motivational stories in hindi by teachers day Top motivational stories in hindi

सपनों  की  उड़ान

जीन  तीसरी  क्लास  में  थी  जब  उसकी  टीचर  ने  क्लास  को  एक  Home work  दिया  सबको  एक  रिपोर्ट  तैयार करनी  थी  कि  वह  बड़े  होकर  क्या  बनना  चाहते  हैं|  जीन   के  पिता  किसान  का  काम  करते  व  छोटी  बस्ती  में  रहते  थे।  वह  वही  पहली  बढ़ी  थी  और  विमान  व  उड़ान  भरने  के  बारे  में  सपने  देखा  करती  थी  उसने  अपने दिल  की  सारी  बातें  और  सपने  कागज  पर  लिख  दिए  वह  पैराशूट  पाहनकर  कूदना  चाहती  थी  बादलों  की  खेती करना  चाहती  थी  और  पायलट  बनना  चाहती  थी।  उसे  अपने  Home work  में  F  ग्रेड  मिला  और  वह  फेल  हो गई  उसकी  टीचर  के  अनुसार  यह  परियों  की  कहानी  थी।

जीन  बहुत  अपमानित  हुई  और  उसका  दिल  टूट  गया  साल  गुजरते  गए  जीन  हाई स्कूल  में  पहुंची  इस  बार उसकी  नई  अंग्रेजी  की  टीचर  ने  कक्षा  को  एक  Home wark  दिया  कि  तुम्हारे   विचार  से  आज  से  10 साल बाद  तुम  क्या  बनोगे  जीन  ने  सोचना  शुरु  किया  पायलट ?  हो  ही  नहीं  सकता । एयर  होस्टेस ?  मैं  इतनी खूबसूरत  नहीं  हूं ? खेती  मैं  कर  सकती  हूं । यह  काम  उसे  सुरक्षित  लगा  इसलिए  उसने  वही  लिखा ।

 टीचर  ने  सारे  कागज़  को  इकट्ठा  किया  और  उसके  बाद  इस  विषय  पर  कोई  चर्चा  नहीं  की  2 हफ्ते  बाद  उसी  कागजों  को  वापस  किया  और  कागजों  के  दूसरे  पन्नों  को  सपनों  की  तरफ  उल्टा  करके  सबके  सामने  मेज  पर  रख  दिया,  फिर  उन्होंने  सब  से  एक  सवाल  पूछा  अगर  तुम्हें  मैं  असीमित  पैसा  सबसे  बढ़िया  स्कूल  में  शिक्षा  असीमित  प्रतिभा  और  काबिलियत  मिल  जाए|  तो  तुम  क्या  करोगे  जीन   ने  अपने  अंदर  पुराने  उत्साह  की  लहर  महसूस  की  और  जोश  में आकर  उसने  अपने  सारे  पुराने  सपने  लिख  दिए, जब  सब  बच्चो  ने लिखना  बंद  कर  दिया  था ।  तब  टीचर  ने  पूछा  कितने  बच्चों  ने  कागज  के  दोनों  तरफ  एक  ही  चीज़  लिखी  है उसमें  एक  भी  हाथ  ऊपर  नहीं  उठा ।

उसके  बाद  जो  टीचर  ने  बात  कही  उससे  जीन  की  जिंदगी  की  दिशा  ही  बदल  गई  वह  बोली  मुझे  तुम  लोगों को  एक  बात  बतानी  है। तुम  सबके  पास  यकीनन  असीमित  काबिलियत  और  प्रतिभा  है  तुम  यकीनन  सबसे  बढ़िया  स्कूल  में  पढ़  सकते  हो  और  तुम  असीमित  धन  की  व्यवस्था  भी  कर  सकते  हो  बशर्ते  तुम  किसी  चीज की  दीवानगी  की  हद  तक  चाहो  तो । बस  इतना  ही  है । स्कूल  के  बाहर  जाकर  अगर  तुम  अपने  सपनों  को  खुद  पूरा  नहीं  करोगे  तो  कोई  और  तुम्हारे  सपनों  के  लिए  यह  कभी  नहीं  करेगा  अगर  अाप  सचमुच  कुछ  चाहते  हो तो  उसे  हासिल  भी  कर  सकते  हो।

 सालों  की  निराशा  से  जीन  के  मन  में  जो  दर्द  और  डर  घर  कर  गया  था  वह  उस  के  शब्दों  की  सच्चाई  के आगे  ढह  गया । उसके  मन  में  एक  नया  जोश  जगा।  क्लास  के  बाद  जीन  ने  अपनी  टीचर  को  धन्यवाद  दिया  और  उन्हें  पायलट  बनने  के  अपने  सपने  को  बताया  टीचर  ने  उसे  आश्वासन  दिया  फिर  ऐसा  ही  करो  और  जीन  ने  ऐसा  ही  किया।  10 साल  की  कड़ी  मेहनत  और  लोगों  की  ओर  से  तरह  तरह  के  विरोध  का  सामना करने  के  बाद  वह  पायलट  बन  गई । जीन  की  तीसरी  क्लास  की  टीचर  ने  जीन  की  बातों  को  परी  कथा  कहा था। उसने  वह  सब  किया 1978  में  वह  यूनाइटेड  एयरलाइंस  द्वारा  स्वीकार  की  जीन  तीन  महिलाओं  में  से  एक थी।  और  देश  की  50  महिला  एयर  पायलट  में  अकेली  चुनी  गई  थी।  सच  में  जीन  ने  अपने  सपनों  को  हकीकत  में  बदला ।

दोस्तों  मैं  बस  अब  आपसे  इतना  कहना  चाहता  हूं , कि  हम  इस  बात  से  दुखी  हैं  कि  हमारे  पैरों  में  चप्पल  नहीं है । ध्यान  से  देखिए  जरा  इस  दुनिया  को,  इस  दुनिया  में  कोई  इंसान  ऐसे  भी  हैं  जिनका  पैर  भी  नहीं  है।
 तो  कौन  रोक  रहा  है  तो  आज  से  आप  भी  अपने  सपनों  के  तरफ  आगे  बढ़े  और  जीन  की  तरह  अपने  सपनों  को  भी  पूरा कीजिए। अगर  तुम  अपने  सपनों  को  खुद  पूरा  नहीं  करोगे  तो  कोई  और  तुम्हारे  सपनों  के  लिए  यह  कभी  नहीं  करेगा  अगर  सचमुच  कुछ  चाहते  हो  तो  उसे  हासिल  भी  कर  सकते  हो l