Tuesday, March 15, 2016

तीन डाकू

तीन डाकू Prerak Prasang (प्रेरक प्रसंग कहानियाँ) - Moral and Inspirational Stories in Hindi on Prerak

तीन डाकू

बहुत  पहले  की  बात  है, एक  यात्री  जंगल  से  गुजर  रहा  था। तभी  तीन  डाकूओ  ने  उस  यात्री  को  घेर  लिया  और उसके  सारे  पैसे और जेवर  लूट  लिए  तब  एक  डाकू  बोला  आब  इस  आदमी  को  जिंदा  छोड़  देने  से  क्या  फायदा है। यह  कह  कर  पहला  डाकू  उस  यात्री  को  मारने  के  लिए  तलवार  लेकर  उसे  मारने  जा  रहा  था ।

 तभी  दूसरे  डाकू  ने  उसे  रोकते  हुए  कहा  जब  हम  इसका  सब  कुछ  ले  ही  चुके  हैं,  तो  उसे  मारने  का  क्या फायदा  हम  इसके  हाथ  पैरों  को  बांधकर  यहीं  छोड़  देते  हैं  अगर  इस  के  भाग्य  ने  इसका  साथ  दिया  तो  यह बज  जाएगा  नहीं  तो  इसे  तो  मरना  ही  है। तब  पहले  डाकू  ने  ऐसा  ही  किया । डाकुओं  ने  उस  यात्री  के  हाथ  पैर  को  रस्सी  से  बांध  दिया  और  वहां  से  चले  गए ।

कुछ  देर  बाद  तीसरा  डाकू  लौटा  और  उसने  यात्री  के  बंधन  कांटे  और  बोला  भाई  मुझे  बड़ा  अफसोस  है
तुम्हें  कोई  चोट  तो  नहीं  लगी,  आओ  मैं  तुम्हें  राजमार्ग  तक  छोड़  आता  हूँ। वहां  तुम्हें  कोई  भी  डाकू  नहीं  मिलेगा  और  तुम  निश्चित  होकर  अपने  घर  को  जा  सकोगे । राजमार्ग  पर  पहुंचने  पर  यात्री  ने  डाकू  के  प्रति आभार  प्रकट  करते  हुए  कहा  भाई  तुमने  मुझ  पर  बहुत  बड़ा  उपकार  किया  है।

कृपया  तुम  मेरे  साथ  मेरे  घर  पर  चलो  और  मुझे  अपने  आतिथ्य  का  अवसर  प्रदान  करो  डाकू  ने  कहा  नहीं भाई  तुम्हारे  साथ  जाने  पर  मुझे  भय  है  परंतु  मैं  किसी  दिन  तुम्हें  दूसरे  भेष   में  अवश्य  मिलूंगा, तब  शायद  तुम मुझे  पहचान  न  सकोगे  और  फिर  तीसरा  डाकू  वहा  से  चला  गया। यात्री  निराश  होकर  अपने  घर  की   ओर  चल  दिया  जब  यात्री  घर  पहुंचा  तो  उसके  आश्चर्य  की  सीमा  ना  रही  उस  का  लूटा  हुआ  सामान  पहले  से  ही  कोई  वहां  पहुंचा  गया  था  साथ  ही  एक  चिट्ठी  भी  थी ।

शिक्षा :-  दुनिया  एक  जंगल  है  उसमें  हम  सभी  को  तीन  डाकू  मिलेगे ,  वह  डाकू हैं  - सत्व,  रजस  और  तमस। तमस  आदमी  को  समाप्त  करने  कि  कोशिश  करता  है । रजस उसे  संसार  में  बंधता  है । परंतु  सत्व  उसे  तमस  और  रजस  के  चंगुल  से  छुड़ाकर  उस  राजमार्ग  पर  छोड़ता  है  जहां  पर  कोई  भी  भय  नहीं  होता।