Wednesday, March 9, 2016

स्वामी विवेकानन्द: मैं हमेशा खुश क्यों रहता हूँ

happy life tips hindi जिन्दगी ,Tips How to be Happy in Life in Hindi

स्वामी विवेकानन्द: मैं हमेशा खुश क्यों रहता हूँ 

चंद्रपुर  के  राजा  की  मृत्यु  के  बाद  उसके  पुत्र  सौरव  को  राज गद्दी  मिली,  वह  अभी  युवा  था ।युवा  सौरव  बहुत परेशान  था  वह  समझ  नहीं  पा  रहा  था  कि  किसका  पर  विश्वास  करें  और  किस पर नही , उसने  राज  काज चलाने  में  काफी  परेशानी  हो  रही  थी ।

एक  दिन  वह  अपने  महल  के  ऊपर  छत  पर  खड़ा  था  तभी  उसकी  नजर  अचानक  महल  के  मार्ग  पर  पड़ी उसने  देखा  कि  लोगों  का  एक  झुंड  एक  ही  दिशा  में  चला  जा  रहा  है,  पूछने  पर  उसे  मालूम  हुआ  कि  एक  संत  स्वामी  विवेकानन्द  जी  नगर  के  बाहर  आध्यात्मिक  प्रवचन  देने  के  लिए  आए  हैं  सब  उन्हीं  के  प्रवचनों  को सुनने  के  लिए  जा  रहे  हैं । यह  देख  सौरव  के  भीतर  उत्सुकता  जगी  तो  वह  भी  रूप  बदलकर  सभा  स्थल  पर जा  पहुंचा ।

युवा  राजा  सौरभ   ने  स्वामी विवेकानन्द  के  प्रवचन  को  ध्यान  पूर्वक  सुना  और  अपने  मन  में  असीम  आनंद  का अनुभव  किया,  सभा  समाप्त  हुई  और  सभी  श्रोता  लोग  अपने-अपने  घरों  को  लौट  गए  लेकिन  सौरभ  अपने स्थान  पर  ही  बैठा  रहा , स्वामी विवेकानन्द  जी  अपनी  कुटिया  में  जाने  के  लिए  आसन  पर  बैठे  थे  तभी  उनके कपड़े  कुर्सी  में  कील  में  फस  गया  और थोड़ा  सा  फट  गया  स्वामी  जी  अंदर  गए  और  सुई  धागा  लेकर  बाहर आए ।

 वह  कपड़े  की  सिलाई  के  लिए  सुई   में  धागा  डालने  का  प्रयास  करने  लगे , यह  देखकर  सौरभ  ने  कहा  महाराज  आप  का  यह  कपड़ा  पुराना  हो  चुका  है  यह  मुझे  दे  दीजिए  और  मेरा  कपड़ा आप  ले  लीजिए  स्वामी विवेकानन्द  ने  उत्तर  दिया  वत्स  मुझे  तुम्हारा  यह  नया  कुर्ता  नहीं  चाहिए  यदि  तुम  मेरी  मदद  करना  चाहते  हो  तो  सुई  में  धागा  डाल  दो ।सौरव  ने  सुई  में  धागा  डालकर  स्वामी विवेकानन्द  को  दे  दिया , स्वामी विवेकानन्द  ने  अपने  कपड़े  में  टांके  लगाने के  बाद  कहा

 शिक्षा -  मनुष्य  को  किसी  पर  निर्भर  नहीं  रहना  चाहिए ,पता  है  मैं  हमेशा  खुश  क्यों  रहता  हूँ ..? क्योंकि,  मैं  खुद के  सिवा  किसी  से  कोई  उम्मीद  नहीं  रखता ! मैं  किसी  कार्य  के  लिए  दूसरों  पर  आश्रित  नहीं रहता । वही  व्यक्ति  जीवन  में  सफल  हो  सकता  है ,जो  सबसे  ज्यादा  अपने  ऊपर  विश्वास  करता  हूं  स्वामी विवेकानन्द  के  शब्द  सुनकर  सौरव  के  सारे  सशंय  दूर  हो  गए  और  उस  दिन  के  बाद  उसने  एक  नए आत्मविश्वास  के  साथ  राज काज  का  काम  शुरू  किया।