Sunday, March 6, 2016

विचार नहीं छिपते

विचार नहीं छिपते , कथा-कहानी - संकलन. Stories for children of all ages. Free Hindi stories for kids. This is a collection of famous story

विचार नहीं छिपते


महाभारत  काल  की  बात  है  अज्ञातवास  में  पांडव  रूप  बदलकर  ब्राह्मणों  के  वेश  में  रहा  करते  थे , एक  दिन  रास्ते  में  उन्हें  कुछ  ब्राह्मण  मिले  वह  राजा  द्रुपद  की  बेटी  द्रोपदी  के  स्वयंवर  में  जा  रहे  थे । पांडव  भी  उनके साथ  चल  पड़े , स्वयंवर  में  एक  धनुष  को  झुका  कर  तीर  से  निशाना  लगाना  था  वहां पर  सभी  राजाओं  ने निशाना  लगाना  तो  दूर  धनुष  को  झुका  भी  नहीं  सके ।

लेकिन  अर्जुन  ने  धनुष  को  झुका  दिया  और  लक्ष्य  पर निशाना  लगा  दिया  शर्त  के  अनुसार  द्रोपदी  का  स्वयंवर अर्जुन  के  साथ  हो  गया  उसके  बाद  पांडव  द्रोपदी  को  लेकर  अपने  साथ  अपनी  कुटिया  में  आ  गए  । एक ब्राह्मण  के  द्वारा  स्वयंवर  में  विजयी  होने  पर  राजा  द्रुपद  को  बड़ा  आश्चर्य  हुआ , वह  अपनी  बेटी  का  विवाह अर्जुन  जैसे  वीर  के  साथ  करना  चाहते  थे ।

राजा  द्रुपद  ने  पांडवों  कि  वास्तविकता  का पता  लगाने  के  लिए  राजा  ने  राजमहल  में  राज भोज  का आयोजन किया  और  उसमें  पांडवों  को  बुलाया,  राजा  ने  राजमहल  को  कई  वस्तुओं  से  सजावाया  था  एक  कक्ष  में  फूल, फल, आसन  आदि  ब्राह्मणों  के  उपयोग  की  वस्तु  रखी  थी  तथा  दूसरे  कक्ष  में  गाय,  रस्सी  आदि  किसानों  का उपयोग  की  सामग्री  थी । एक  कक्ष  में  युद्ध  के  कामों  में  आने  वाले  अस्त्र  शस्त्र  रखवा  दिए ।

 भोजन  करने  के  बाद  सभी  लोग  अपनी-अपनी  पसंद  की  वस्तुओं  को  देखने  लगे , ब्राह्मण  वेश में  पांडव  सबसे पहले  उसी  कक्ष  में  गए , जहां   पर  अस्त्र शस्त्र  रखे  हुए  थे । द्रोपदी  के  पिता  राजा  द्रुपद  बड़ी  बारीकी  से  उनकी गतिविधियों  को  देख  रहे  थे  । वह  समझ  गए  कि  यह  पांच  ब्राह्मण  नहीं  हैं  अवसर  मिलने  पर  उन्होंने  युधिष्ठिर  से  पूछा  सच  बताइए  आप  ब्राह्मण  है  या  क्षत्रिय आप  ने  ब्राह्मणों  के  समान  वस्त्र  जरूर  पहन  रखे  हैं  परंतु  आप लोग  क्षत्रिय  हैं । युधिष्ठिर  हमेशा  सच  बोलने  वाले  थे  उन्होंने  स्वीकार  कर  लिया  कि  वह  सचमुच  क्षत्रिय  हैं  और स्वयंवर  जीतने  वाला  अर्जुन  है  । यह  जानकार  राजा  द्रुपद  खुश  हो गए ।

शिक्षा -  व्यक्ति  अपना  वेश  भले  ही  बदल  ले  लेकिन  अपने  विचार  आसानी  से  नहीं  बदल  सकता  हम  अपने  जीवन  में  जैसे  काम  करते  हैं  वैसे  ही  हमारे  विचार  बनते  हैं,  और  यही  हमारी  पहचान  होती  है |