Friday, March 25, 2016

हाथों की लकीर

moral kahaniya in hindi moral stories for students hindi moral stories for kids tells moral stories for adults in hindi inspirational moral stories hindi latest moral story in hindi

हाथों  की  लकीर 

किसी  देश  में  वासु  नामक  एक  राजा  राज  करता  था।  वह  एक  पुरुषार्थी  और  चक्रवर्ती  राजा था  मगर  उनके  राज्य  में  ज्योतिषी  ने  उनकी  सोच  ज्योतिष  की  और  मोड़  रखी  थी।  अतः  वह  मुहूर्त  जाने  बिना  कोई  भी  काम नहीं  करते  थे। इस  कारण  से  प्रजा  और  सभासद  मंत्री  सभी  को  बड़ी  चिंता  होने  लगी।

 एक  दिन  राजा  वासु  अपने  देश  के  दौरे  पर  निकले  । उनके  साथ  राजा  ज्योतिषी  भी  था । तभी  उन्हें  रास्ते  में एक  किसान  मिला  जो  हल   और  बेल  लेकर  खेत  जोतने  जा  रहा  था। राज  ज्योतिषी  ने  उसे  रोककर  कहा  "मूर्ख!  तू  जानता  नहीं , आज  इस  दिशा  दिशाशूल  है ,तू  उसी  दिशा   की  ओर  जा  रहा  है।  ऐसा  करने  से  तुझे भयंकर  हानि  उठानी  पड़ेगी!"

राज  ज्योतिषी  ने  यह  बात  राजा  वासु  के  समने  अपना  ज्ञान  को  दिखाने  के  उद्देश्य  से  की  थी । किसान  दिशासूल  के  बारे  में  कुछ  नहीं  जानता  था, अतः  उसने  सहजता  से  कहा  " मैं  तो  रोज  इसी  दिशा  में  जाता  हूं आज  से  नहीं , पिछले  कई  वर्षों  से  ऐसा  करता  आ  रहा  हूं | उसमें  दिशाशूल  वाले  दिन  भी  आए  होंगे। यदि  आपकी बात  सच  होती  तो  कब  का  मेरा  सर्वनाश  हो  गया  होता । मैं  तो  बहुत  सुख  से  जी  रहा  हूं।"

 किसान  का  उत्तर  सुनकर  राज  ज्योतिषी  सकपका  गया , वह  अपना  बचाव  करने  के  लिए  बोला  लगता  है  तेरी कोई  हस्तरेखा  बहुत  ही  प्रबल  है।  दिखा, अपना  हाथ  किसान  ने  अपना  हाथ  आगे  बढ़ा  दिया  किंतु  हथेली  नीचे  की  ओर  रखी । ऐसे  में  राज  ज्योतिषी  चिढ़कर  बोले " मूर्ख! इतना  भी  नहीं  जानता  कि  हस्तरेखा  दिखाने  के लिए  हथेली  ऊपर  रखी  जाती  है।" किसान  नाराज  होकर  बोलाबोला  हथेली  वह  फैलाए  जिसे  किसी  से  कुछ मांगना  हो । जिन  हाथों  की  कमाई  से  अपना  गुजारा  करता  हूं, उसे  क्यों  किसी  के  सामने  फैलाऊ। मुहूर्त  तो  वह    देखें  जो  कर्म हीन  और  निठल्ला  हो  मुझे  तो  अपने  कर्म  और  कर्मफल  पर  जरा  भी  शंका  नहीं  है ।"

 शिक्षा - यह  सुनकर  राज  ज्योतिषी  को  कोई  जवाब  नहीं  सूझा  परंतु  राजा  वसु  समझ  गए  कि  कर्मफल  ही  सबसे  अधिक  प्रभावित  होता  है ! दोस्तों  अब  मैं  सिर्फ  आपसे  इतना  कहना  चाहता  हूं  कि  खुद  पर  विश्वास  रखें , क्योंकि  मत  कर  गरूर  इतना   इन  हाथों  की  लकीरों  पर  किस्मत  तो  उनकी  भी  होती  है  जिनके  हाथ  नहीं  होते ।