Sunday, March 13, 2016

गरीबी के दिन

ज्ञानवर्द्धक हिन्दी की कहानी, Short Hindi Kahani Story with moral, true real story

गरीबी  के  दिन 


एक  गरीब  लड़का  था  लेकिन  वह  पढ़ा  लिखा, समझदार , और  ईमानदार  था । एक  दिन  वह  सेठ  के  पास  पहुंचा और  नौकरी  के  लिए  गया , सेठ  ने   उसे  एक  छोटी  सी  नौकरी  पर  रख  लिया । गुण  तो  उसमें  बहुत  थे  इसलिए वह  जल्दी  ही  तरक्की  कर  सेठ  का  मुनीम  बन  गया , एक  दिन  सेठ  ने  देखा  कि  दोपहर  में  लड़के  ने  अपने घर  का  दरवाजा  बंद  कर  दिया  है।

इससे  सेठ  को  कुछ  शक  हुआ , अब  वह  रोज  ही  लड़के  पर  निगाहें  रखता , हर  रोज  लड़का  दोपहर  के  समय अपने  कमरे  का  दरवाजा  बंद  कर  लेता । अब  तो  सेठ  का  शक  और  भी  पक्का  हो  गया , वह  सोचने  लगा  कि  हो  ना  हो  यह  लड़का  रुपए  चुराता  होगा  और  कमरा  बंद  करके  कहीं  छुपा  कर  रख  देता  होगा।
एक  दिन  जैसे  ही  लड़के  ने  कमरे  का  दरवाजा  बंद  किया, सेठ  वहां  पहुंच  गया  और  बोला  दरवाजा  खोलो ।लड़के  ने  दरवाजा  खोल  दिया  और  हाथ  जोड़कर  खड़ा  हो  गया ।

तभी  सेठ  कि  नजर  एक  बक्से  पर  पड़ी  जिस  पर  ताला  लगा  हुआ  था। वह  डांटते  हुए  बोला  खोलो  यह  बक्सा लड़के  ने  बहुत  ही  नम्रता  से  कहा  सेठ  जी  इस  बक्से  में  कोई  खास  चीज  नहीं  है। इसे  मत  खुलवाओ  आब  तो सेठ  का  शक  और  भी  पक्का  हो  गया, वह  चिल्लाने  लगा  कि  खोलो  ताला । लड़के  ने  ताला  खोल  दिया , उसमे   एक  जोड़ी  पुरानी  चप्पल  और  वही  कपड़े  थे , जिसे  पहनकर  लड़का  पहली  बार  सेठ  के  पास  आया  था  ।

तब  लड़के  ने  कहा  सेठ  जी में  रोज  दरवाजा  बंद  करके  इन  कपड़ों  को  देख  लेता  हूं,  आज  तो  मैं  आपकी  कृपा से  अच्छा  खासा  खाता  पहनता  हूं,  लेकिन  इनको  रोज  इसलिए  देखता  हूं , ताकि  मैं  भूल  ना  जाऊं  कि  पुराने  दिनों   को  और  आप  की  कृपा  हमेशा  याद  रहती  है । सेठ  मन  ही  मन  शर्मिंदा  हो  गया ।

शिक्षा -  हमें  हमेशा  सोचना  चाहिए  किसी - किस  ने  हमारी  सहायता  की  है  किस  ने  हमारी  जरुरत  को  पूरा  किया  हमें  इस  लायक  बनाया  है,  हमारे  आंसू  पोछे  सहारा  दिया  है  हमें  उनके  प्रति  कृतज्ञ  रहना  चाहिए।