Monday, March 7, 2016

सच्ची शिक्षा

prernadayak kahaniya in hindi prernadayak shayari in hindi prernadayak hindi kavita prernadayak vichar in hindi whatsapp hindi kahani motivational story in hindi hindi kahani with photo hindi kahaniyan

सच्ची शिक्षा 

एक  शहर  में  एक  संत  रहते  थे  वह  प्रतिदिन  साड़ी  आदि  बनकर  बाजारों  में  बेच  देते  थे, इसी  से  उनकी  रोजी रोटी  और  घर  चलता  था । एक  दिन  एक  धनी लड़का  बाजार  में  उस  संत  के  पास  पहुंचा,  वह  संत  को  ढोगी समझता  था  अतः  उस  ने  संत  की  परीक्षा  लेने  का  सोचा।

 युवक  ने  संत  से  एक  साड़ी  का  दाम  पूछा  संत  ने  ₹1 बताया  लड़के  ने  उस  साड़ी  के  दो  टुकड़े  कर  दिए  तो फिर  एक  का  दाम  पूछा  संत  ने  50 पैसे  बता  दिया , युवक  ने  उस  साड़ी  के  दो  और  टुकड़े  कर  दिए  और फिर  एक  का  मूल्य  पूछा  संत  ने  शांत  मन  से  25 पैसे  बता  दिया ।

इस  तरह  उस  लड़के  ने  साड़ी  के  टुकड़े टुकड़े  कर  दिए  जिससे  उसका  दाम  न  के  बराबर  होता  चला  गया  परंतु साधु  चुप  रहे  तब  लड़के  ने  संत  को  दो  रुपए  देते  हुए  कहा  यह  रहा  तुम्हारे  कपड़े  का  मूल्य । संत  धैर्य  पूर्वक बोले  बेटा  जब  तुमने  साड़ी  खरीदी  ही  नहीं  तो  मैं  उसका  दाम  कैसे  ले  सकता  हूं।

 लड़का  आश्चर्य  से  संत  का  मुंह  देखने  लगा , उसे  अपने  काम  पर  दुःखी  होने  लगा  संत  बोले  बेटा  यह  दो  रुपए क्या   उस  मेहनत  के  दाम  के  दे  सकते  हो  जो  इस  साड़ी  में  लगे  हैं।  इसके  लिए  किसान  ने  साल  भर  खेत  में पसीना  बहाया  है , मेरी  पत्नी  ने  कतरने  और  बुनने  में  रात  दिन  एक  किए  हैं, मेरे  बेटे  ने  उसे  रंगा  है  और  मैंने उसे  साड़ी  का  रुप  दिया  है।

यह  सुनकर  उस  लड़के  की  आंखों  में  से  आंसू  छलक  है  उसने  संत  से  क्षमा  मांगी  और  ऐसा  व्यवहार  किसी  के साथ  ना  करने  की  कसम  खाई  फिर  वह  बोला  आप  मुझे  पहले  भी  तो  रोक  कर  यह  बात  कह  सकते  थे, फिर आपने  ऐसा  क्यों  नहीं  किया । संत  ने  कहा  अभी  मैंने  तुम्हें  पहले  रोक   दिया  होता  तो  तुम्हारा  संयम  पूरे  तरीके से  नष्ट  नहीं  होता  और  तुम  शिक्षा  को  सही  तरीके  से  अपने  मन  में  नहीं  बैठा  पाते  और  अपने  जीवन  में  नहीं उतार  पाते  धैर्य  और  विनम्रता  के  साथ  दी  गई  शिक्षा  व्यक्ति  को  अपूर्व  परिवर्तन  कर  देती  है, इससे  उसके  दुर्गुणों  का  नाश  हो  कर  सदगुण  का  विकास  होता  है  यही  इस  कहानी  से  हमें  शिक्षा  मिलती  है।