Monday, March 14, 2016

ताजमहल के पत्थर

लालबहादुर शास्त्री जी का प्रेरक प्रसंग,Lal Bahadur Shastri's motivation story in Hindi.

ताजमहल के पत्थर

भारत  के  प्रधानमंत्री  लाल  बहादुर  शास्त्री जी  बड़े  ही  हंसमुख  स्वभाव  के  थे , लोग  उनके  भाषणों  और  निस्वार्थ सेवा  भाव  जैसे  गुणों  के  लिए  लोग  उन्हें  आज  भी  याद  रखते  हैं। लेकिन  जब  लालबहादुर  शास्त्री  लोक  सेवा  मंडल  के  सदस्य  बने  तो  वह  बहुत  ही  ज्यादा  संकोची  हो  गए, वह  नहीं  चाहते  थे  कि  उनका  नाम  अखबारों  में  छपे  और  लोग  उनकी  प्रशंसा  और  स्वागत  करें ।

 एक  दिन  शास्त्री  जी  के  मित्र  ने  उनसे  पूछा  शास्त्री  जी  आपको  अखबारों  के  नाम  छपवाने  में  इतना  परहेज क्यों  हैं ।लाल  बहादुर  शास्त्री  जी  ने  कुछ  देर  सोच  कर  बोला - लाला  लाजपत  राय  जी  ने  जब  मुझे  लोक  सेवा मंडल  के  कार्यों  की  शिक्षा  दी  थी। तो  उन्होंने  कहा  था - लाल  बहादुर  शास्त्री  ताजमहल  में  दो  प्रकार  के  पत्थर लगे  हुए  हैं  ।

एक  बहुत  ही  बढ़िया  संगमरमर  के  पत्थर  है,  जिनको  सारी  दुनिया  देखती  है  और  प्रशंसा  करती  है। दूसरे  पत्थर  ताजमहल  की  नीव  में  लगे  हैं,  जिनके  जीवन  में  केवल  अंधेरा  ही  अंधेरा  है। उनको  कोई  भी  नहीं  पहचानता,  लेकिन  सच्चाई  है  कि  ताजमहल  को  वहीं  नीव  के  पत्थर  खड़ा  रखे  हुए  हैं । लाला  जी  के  यह  शब्द मुझे  हर  समय  याद  रहते  हैं  और  मैं  नीव  का  पत्थर  ही  बने  रहना  चाहता  हूँ|