Friday, March 11, 2016

सफलता के लिए Soft Skills

सफलता के लिए soft skills ,क्यो जरूरी है Soft skills, जानिए soft skills को,Soft skills के प्रकार या भाग

सफलता के लिए soft skills 

Soft skills आप  की  प्रोफेशनल  लाइफ  में  काम  आने  वाली  विशिष्ट  कुशलता  है ! अकादमिक  डिग्री  या  तकनीकी  अनुभव  से  परे  यह  क्वालिटी  सभी  इंडस्ट्री  और  हर  नौकरी  में  काम  आती  हैं । इस  बात  से  कोई  फर्क  नहीं  पड़ता  कि  आपकी  ब्रान्च   या  डोमेन  क्या  है, soft skills  हर  करियर  के  लिए  उपयोगी  है ! इन्हें ट्रांसफरेबल स्किल्स,  इंप्लॉयबिलिटी स्किल्स,  जेनरिक स्किल्स  या की स्किल्स (Key skills) भी  कहा  जाता  है|

 जिस  डिग्री  तक  उम्मीदवार  इन  कुशलता  को  विकसित  कर  पाते  हैं,  उससे  यह  निर्धारित  होता  है  कि हम  किस तरीके  का  संवाद  कर  सकते  हैं ,  प्रेज़ेंटेशन  व  रिपोर्ट  तैयार  कर  सकते  हैं,  समस्याओं  को  सुलझा  सकते  हैं  टीम के  साथ  काम  कर  सकते  हैं , अपना  मूल्यांकन  कर  सकते  हैं  और  दूसरों  के  प्रदर्शन  का  आकलन  कर  सकते  हैं, नया  सीख  सकते  हैं, तनाव  से  निपट  सकते  हैं  व  बदलाव  के  साथ  खुद  को  बदल  सकते  हैं।

जैसे जैसे  संस्थानों  और   कम्पनियों  में  अधिक  से  अधिक  उत्पादन  आते  जा  रहे  हैं, वह  विशिष्ट  कुशलता (soft skills)  युक्त  कर्मचारियों  की  मांग  करने  लगे  हैं|  वह  ऐसे  लोगों  को  चाहते  हैं  जो  हर  तरीके  के  काम  करने  में काबिल  हो  क्योंकि  वह  महसूस  करते  हैं  कि  soft skills  वाले  लोग  कम्पनियों  की  उन्नति  में  बेहतर  योगदान  दे सकते  हैं ।

यदि  मैं  आप  से  कहूं  कि  मात्र  30%  कामों  की  समझ  और  70%  बेहतरीन  संवाद  कुशलताएं, आत्मविश्वास, सामाजिक योग्यता,  रचनात्मक  सोच,  टीमवर्क  इत्यादि  गुण  आप  के  केरिअर  ग्राफ  को  तेजी  से  आगे  पहुंचा  सकते  हैं  तो  आपको  चौकना  नहीं  चाहिए।  एक  रिर्सच  बताती  है  कि  85%  वित्तीय  सफलता  का  श्रेय  ह्यूमन इंजीनियरिंग  स्किल  अर्थात  व्यक्तित्व, संवाद  क्षमता,  नेतृत्व  कौशल  पर  निर्भर  करता  है ,आपकी  सफलता  में  केवल  15%  योगदान  तकनीकी ज्ञान  यानीयानी  डोमेन नॉलेज  का  होता  है|

 कुछ  सालों  पुरानी  बात  होगी  जब  एक  सफेद  कमीज  पैंट,  हाथ  में  घड़ी  पॉलिश्ड  जूते  और  नॉलेज  की  डिग्री नौकरी  सुरक्षित  कर  देती  थी।  धीरे-धीरे  अकादमिक  डिग्री  की  मांग  बढ़ती  चली  गई  और  उन  गुणों  की  भी  जो रोजगार  के  लिए  संजीवनी  थे ।

मनोवैज्ञानिकों  ने  जब  I.Q. कि  खोज  कि  तो  1980  के  दौर  में  उन  प्रोफेशनल  लोगो   कि  अवश्यता  की  मांग तेजी  से  बढ़ने  लगी  जो  इंटेलिजेंस  क्वेश्चन ( I.Q.)  के  बल  पर  अद्भुत  प्रदर्शन  कर  रहे  थे।  उसके  बाद  इमोशनल क्वेश्चन  चर्चा  में  रहा  कि  इसका  प्रभाव  इतना  अधिक  था  कि  microsoft  ने  अपने  एक  सर्वे  में  इसे  अकादमी योग्यता  में  सबसे  ऊपर  जगह  दी ।

 धीरे-धीरे  इन  खूबियों  ने  कुछ  इस  कदर  अपना  सिक्का  जमाया  की  अनिवार्य  रुप  से  नौकरी  में  विशिष्ट  मापदंडों के  रूप  में  शामिल  कर  लिया  गया । भारत  में  भी  इस  चलन  ने  जोर  पकड़ा  और  डिग्री  के  साथ  Soft skills  की  मांग  बढ़ने  लगी । भारतीय  छात्र  तकनीकी  कौशल  में  सक्षम  हैं , लेकिन  तकनीकी  कौशल  से  वह  विश्व स्तरीय  प्रतिस्पर्धा  में  शामिल  नहीं  हो  सकते  थे, इसलिए  भारतीय  कंपनियां  Soft skills की  ट्रेनिंग  पर  अधिक जोर  दे  रही  है,  जिससे  प्रजेंटेशन  और  कम्युनिकेशन स्किल  को  आधिक   महत्व  दिया  गया।

 कैरियर  में  आगे  बढ़ने  के  लिए  Soft skills  और  डोमेन  नॉलेज  का  70 :30  का  अनुपात  होना  चाहिए।  वास्तविकता  में  Soft skills   डोमेन  नॉलेज  से  आगे  निकल  चुकी  है । इसी  तरह  कंपनियों  के  अध्ययन  में  पाया कि  काम  करने  के  दौरान  जिन  मैनेजर  का  प्रदर्शन  बेहतरीन  था  उनमें  सेल्फ अवेयरनेस,  सेल्फ मनेजमेंट, सामाजिक कुशलता  और  संगठात्मक टीम  कौशल  जैसे  गुण  मौजूद  थे । जाहिर  है  की  70 %  काम  की काबिलियत  को  सीखना  अधिक  महत्वपूर्ण  हो  गया ।

क्यो  जरूरी  है  Soft  skills

Personality development  कि  यह  पोस्ट  थोड़ी  बड़ी  हैं  इसलिए आप  इस  पेज  को  Bookmark  कर  Save  कर  ले  चलिए  अब  जानते  हैं  कि  क्यों  जरुरी  है soft skills,  नौकरी  में  75%  सफलता  ऑफिस  soft skills  पर  निर्भर  करती  है  और  25%  तकनीकी  कुशलता  पर  आखिरकार  सॉफ्ट  स्किल्स  को  काम  के  लिए जरूरी  डोमेन  नॉलेज  से  अधिक  अहमियत  क्यो  मिल  रही  है ? ऐसा  नहीं  है  कि  टेक्निकल  नॉलेज  या  Hard skills  कम  महत्वपूर्ण  है , लेकिन  उन्हें  हासिल अधिक  सरल  है । हर  नौकरी  या  पढ़ाई  में  ऐसी  परीक्षा  होती  है जो  तकनीकी  कुशलता  की  परख  कर  लेती  है, लेकिन  यह  परीक्षा  व्यवहार और  रवैए  की  जांच  नहीं  कर  पाती  हैं जैसा  कि  यह  देखने  में  आया  है  कि  कोई  उम्मीदवार  नई  कुशलताओं  को  अपनाने  एवं  रचनात्मक  ढंग  से  सोचने असफलताओं  से  उभरने, प्रतिक्रिया  को  ग्रहण  करने,  अपने  साथी  के  साथ  सहयोग  करने  के  लिए  कितना उत्साही  है । कम्पनी  के  मालिक  इन  कुशलताओ  को  इसलिए  ढूंढते  हैं  क्योंकि  ये  ना  केवल  संस्थान  और  कम्पनी  की  उन्नति  के  लिए  जबरदस्त  ढंग  से  अपना  योगदान  देती  है,  बल्कि  कर्मचारी  का  व्यक्तित्व  विकास (Personality Development ) भी  करती  हैं,  जिसमें  कंपनियों  के  साख  में  बढ़ोत्तरी  होती  है।

जानिए soft skills को 

सॉफ्ट स्किल्स  को  मनोवैज्ञानिक  की  परिभाषा  के  अनुसार, व्यक्ति  के  इमोशनल  इंटेलीजेंस  क्वेश्चन (E.Q.)  से संबंधित  soft skills  व्यक्तिगत  विशेषताओं,  संवाद, भाषा, व्यक्तिगत अदाओं, सकारात्मकता  गुणों  का  समूह  है।  यह  व्यक्तित्व  विशेषताए  है,  जो  किसी  व्यक्ति  की  कुशलताओं  और  प्रदर्शन  की  योग्यता  से  जुड़ी  है।

 सरल  शब्दों  में  कहें  तो  सॉफ्ट  स्किल्स  वे  कुशलता  है  जो  भीड़  से  आपको  अलग  करती  हैं । जहां  हार्ड  स्किल्स  आकादमिक  योग्यताओं  पर  जोर  देती  हैं ।  वही  सॉफ्ट स्किल्स  में  संवाद योग्यता,  टीम वर्क, समय प्रबंधन, समस्याओं  को  सुलझाने  की  काबिलियत  शामिल  है। soft skills  हर  क्षेत्र  में  काम  आती  है|  वह  अद्भुद  ढंग  से अपकी  जिंदगी  को  बदलती  हैं ।  कंपनियां  अब  ऐसे  लोगों  को  ढूंढती  है,  जो  बेहतर  ढंग  से  संवाद  कर  सकते  हैं, संतुलन  के  साथ  स्थितियों  को  संभाल  सकते  हैं,  मुद्दों  को  सुलझा  सकते  हैं, बेहतर  प्रस्तुति  दे  सकते  हैं। soft Skills  किसी  व्यक्ति  के  व्यक्तित्व  और  प्रदर्शन  को  मजबूत  बनाती  है । यहां  तक  कि  उनके  इमोशनल क्वेश्चन E.Q.  के  लिए  आधार  तैयार  करती  है |  इसी  आधार  पर  नौकरियों  में  सफलता  टिकी  होती  है|  जहां  हार्ड  स्किल्स  आपको  नौकरियों  के  लिए  तकनीकी क्षेत्र  विशेष  में  महारत  प्रदान  करती  है, soft skills  व्यवहार  से जुड़ी  काबिलियत  है  जो  आपको  परिस्थितियों  को  संभालने  और  जोखिम  उठाने  और  लोगों  के  साथ  पेश  आने   का  प्रशिक्षण  देती  है।

Hard skills  आपको  इंटरव्यू  तक  पहुंचा  सकती  है  लेकिन  सॉफ्ट स्किल्स  आपको  नौकरी  हासिल  करने  में  मदद  करती  है।  शिक्षा  और  अनुभव  आपको  सफलता  के  द्वार  तक  पहुंचाते  हैं,  लेकिन  लीडरशिप,  सेल्फ मोटिवेशन, कम्युनिकेशन स्किल  और  प्रबंधन  के  बिना  आप  अपने  विचारों  को  बेच  पाने, टीम  के  रुप  में  काम करते  हुए  और  बड़ी  भूमिकाओ  के  लिए  अपनी  योग्यताओं  में  प्रदर्शन  सीमित  रुप  से  आगे  बढ़ा  पाते  हैं।         सॉफ्ट स्किल्स  की  मदद  से  आपको  प्रदर्शन  में  अधिकतम  आजादी  मिलती  है।

 कम्पनी  मालिक  नौकरी  के  समय  तीन खूबियों  पर  जोड़  देते  हैं  संवाद कुशलता,  क्रिटिकल  थिंकिंग  और  लेखन योग्यता। कम्पनी  मालिक  द्वारा  उम्मीदवारों  में  कुछ  बातें  देखी  जाती  है , यह  है  बेहतर  रवैया , नई  चीजों  के  जानने  और  प्रशिक्षण  प्राप्त  करने  की  तीव्र  इच्छा  और  काम  के  प्रति  सकारात्मक  रुख ।  ऐसे  कर्मचारियों  की प्रगति  करने  की  संभावना  सर्वाधिक  होती  है  जिसमें  समय  के  साथ  काम  करने  अपने  आप  में  परिवर्तन  लाने की  क्षमता  होती  है।

Soft skills  के  प्रकार  या  भाग 

विशेषज्ञों  ने  soft skills को  मोटे  रूप  में  दो  भागों  में  बांटा  है , पहली  है  सेल्फ  मैनेजमेंट  स्किल्स  और  दूसरी पीपल  स्किल्स ।  तो  चलिए  आप  जानते  हैं  सेल्फ  मैनेजमेंट  स्किल्स  के  अंदर  क्या-क्या  आता  है

1. सेल्फ मैनेजमेंट  अवेयरनेस  में  दो  महत्वपूर्ण  तत्व  है।  आपकी  संवेदनाओ  की  बारिकीयों  के  बीच  अंतर  और आपनी  सोच  व  कामों  पर  उनके  असर  को  समझाना।  दूसरा  इन  बातों  को  जागरुकता  कि  हम  दूसरों  पर  किस तरीके  का  प्रभाव  डालते  हैं।  इस  समाझ  की  कमी  पेशेवर  जिंदगी  में  नुकसान  पहुंचा  सकती  है।

*  इमोशनल मैनेजमेंट
*  आत्मविश्वास 
*   तनाव नियंत्रण  
*   दृढ़ता  
*   धैर्य 

2. पीपल  स्किल्स

 * कम्यूनिकेशन  स्किल्स
 * प्रेजेंटेशन  स्किल्स 
 * टीमवर्क 
 * लीडरशिप स्किल्स 
 * नेटवर्किंग  स्किल्स
 * व्यक्तिगत उत्कृटता  
 * वर्क एथिक्स  
 * रचनात्मक  सोच 
 * दबाव  का  सामना
 * मुश्किल  परिस्थितियों  से  भिड़ंत 
 * समझौतो  की  कला 
 * व्यवस्था  का  कौशल 

Soft skills  का  प्रतिशत 

 तो  अब  चलिए  जानते  हैं  आपके  अंदर  सॉफ्ट  स्किल्स  कितने  मात्रा  में  होनी  चाहिए

*  इंटीग्रिटी                                24 ℅
*  लीडरशिप  स्किल्स                 17 %
*  कम्युनिकेशन स्किल                16 %
*  रिस्पान्सबिलिटी                      11 %
*  टीम स्किल्स                             7 %
*  इनोवेशन                                 6 %
*  विलिंग टू लर्न                           6 %
*  प्रोजेक्ट मैनेजमेंट स्किल्स          5 %
*  मोटिवेशनल स्किल्स                 4 %
*  इंटरपर्सनल स्किल्स                  4℅

 निम्न  कुशलताओं  को  कम्पनी  मालिक  पसंद  करते  हैं ।

* क्रिएटिव थिंकिंग   94.3   %
* एक्टिव लर्निंग      85.7   %
* टाइम मैंनेजमेंट    74.3   %
* स्टैटजी लर्निंग      71.4  %

अब  तो  आप  soft skills को जान  चुके  है , तो अपने  अन्दर  इन  सभी  गुणों  को  विकसित  कीजिए  और  सफलता  की  ओर  आगे  बढ़े । याद  रखिए  मनुष्य  के  सारे  काम  इन  सातों  में  से  किसी  एक  वज़ह  से  होते हैं मौका, प्रकृति, मजबूरी, आदत,  कारण, जुनून, इच्छा ।