Saturday, April 2, 2016

जीवन की यात्रा

जीवन की यात्रा,Hindi Stories With Moral Moral Stories in Hindi, stories in Hindi, Hindi life story, Hindi Story on Moral Values, Moral Stories in Hindi,

जीवन  की  यात्रा

बोधिसत्व  का  जन्म  वाराणसी  जिले  के  बंजारों  के  कुल  में  हुआ  था । बंजारों  का  काम  माल  ले  जाकर  एक स्थान  से  दूसरे  स्थान  तक  पहुंचाने  का  था । युवा  बोधिसत्व  को  500  बैल गाड़ियों  पर  सामान  लादकर  ले  जाना  था और  उन्हें  बेचना था । अतः उन्होने  सामान  लदकर  अपने  बंजारे  साथियों  से  कहा,  " मित्रों  हम  जिस  मार्ग  से  यात्रा  करेंगे , उस  मार्ग  पर  विषेले  फल, पात्ते  और  फूल  आदि  मिलेंगे ।


यदि  कोई  ऐसी  वस्तुएं  दिखे  जो  तुमने  पहले  कभी  ना  खाई  हो  तो  उसे  मुझसे  पूछे  बिना  मत  खाना।  कई   दुष्ट  चावला  आदि  में  भी  विष  मिलाकर  रख  देते  हैं । उन्हें  खाने  वाला  जीवित  नहीं  बचता  है, अतः  ऐसी  कोई भी  वस्तु  को  ना  खाए ।

थोड़ी  देर  बाद  कारवां  आगे  बढ़ने  लगा । वन  में  बंजारों  को  भी  पत्तों  पर  मधुफल  आदि  खाद्य  पदार्थ  मिले ।बोधिसत्व  के  कुछ  बंजारे  साथी  अत्यंत  असंयमी  थे ।अतः  वह  स्वयं  को  रोक  न  सके  और  उन  खाद्य  पदार्थों  को खा  कर  मर  गए,  कुछ  बंजारें  उसे  हाथ  में  लेकर  बोधिसत्व  के  आने  की  प्रतीक्षा  करने  लगे  । जब  बोधिसत्व  वहां  पहुंचे  तो   जिन्होंने  पहले  वह  मधुफल  खा  लिया  था  , उनको  मारा  पाया  अतः  वह  कुछ  ना  कर  सके  बाद में  मधुफल  खाने  वालों  को  उन्होने  उल्टी  करवायी  और  उपचार  किया । इस  प्रकार  उन्हें  नया  जीवन  मिला।

बोधिसत्व  सकुशल  अपने  मंजिल  तक  पहुंचे  और  वहां  सामान  बेचकर  अपने  बंजारे  साथियों  के  साथ  घर  वापस लौटे  इस  कहानी  से  हमें  यह  शिक्षा  मिलती  है  कि  जीवन  एक  यात्रा  है,  यहां  पर  विशेष  प्रकार  के  विषय - भोग बिखरे  पड़े  हैं   जिनमें  तीक्ष्ण  विष  है।  बुद्धिमान  व्यक्ति  महापुरुषों  के  अनुभव  से  लाभ  उठाते  हैं  और  स्वयं  पर नियंत्रण  रखते  हुए  शांतिपूर्ण  जीवन  व्यतीत  करते  हैं  जो  व्यक्ति  की  आत्म  संयम  को  छोड़  देता  है  वह  पाप बंधनों  को  पकड़कर  अपने  जीवन  को  दुखपूर्ण  बना  लेते  है ।