Saturday, April 9, 2016

Snapdeal, ola cab ,oyo room कि सफलता

great Indian startup story in Hindi SNAPDEAL SUCCESS STORY in Hindi OYO Room success story in Hindi OLA cab success story in hindi, Success Mantra of Oyo Rooms' owner Ritesh Agarwal story in hindi Ritesh Agarwal's journey from being a SIM-seller to the helm of OYO Room story in hindi Indian entrepreneur and the founder and CEO of OYO Rooms ritesh agarwal kahani in Hindi OYO Rooms App Ritesh Agarwal inspirational story in hindi Snapdeal Story - History, Founder, Founded, CEO ,E-Commerce successful story in Hindi real life story of snapdeal founder kunal bahl and Rohit in Hindi Kunal Bahl shares his journey of founding Snapdeal inspirational and motivational story in Hindi great Indian startup story in Hindi SNAPDEAL SUCCESS STORY in Hindi OYO Room success story in Hindi OLA cab success story in hindi snapdeal success story in hindi story of snapdeal owner STORIES of ola cabs YOU MAY BE INTERESTED IN hindi The OlaCabs Story in hindi Meet the founders, how they started out Bhavish Aggarwal story in hindi Bhavish Agarwal, Co-Founder and CEO of Ola Cabs story in hindi The OlaCab story in hindi

इस  उम्र  में  कई  युवा  कॉलेज  में  पढ़ाई  कर  रहे  होते  है। उसी  उम्र  में  भारत  के  कई  युवा  करोड़पति  और अरबपति  बन  रहे  हैं ।  यह  युवा  न  सिर्फ   खुद  पैसा  कमा  रहे  हैं , बल्कि  लोगो  को  भी  जॉब दे  रहे  हैं  ।यह कमाल  हुआ  है  स्टार्ट अप  इन्डस्ट्री  से  तो  आज  हम  बात  करेंगे  एेसे  ही  युवाओं  कि

OYO Room  कि  कहानी 

इन  युवाओं  मे  सबसे  पहले  बात  करेगे  उड़िसा   के  छोटे  से  गाँव  के  रितेश  अग्रवाल  कि  रितेश अग्रवाल  ने  बिना  किसी  बड़े  इनवेस्टमेंट ( निवेश ) के  सस्ते  होटल  को  एेसे  जोड़ा  हैं  कि  आज  उनका  काम  670 करोड़  का  हो  गया  है ।  22 साल  के  रितेश अग्रवाल  भारत  में  OYO Room  को  होटल  बुकिंग  का  सबसे  बड़ा  ब्रांड  बना  दिया  है ।

13 साल  कि  उम्र  से  ही  रितेश अग्रवाल  देश  के  अलग - अलग  हिस्सो  में  घूमते  थे , कभी  उन्हें  सस्ते  होटल  या  रूम  मिल  जाते  तो  कभी  महंगे  होटल  और  रूम  उन्हीं  दिनों  रितेश अग्रवाल  को  बजट  होटल  का  आइडिया  आया  सोचा  कि  कुछ  एेसा  किया  जाए  कि  हर  किसी  को  एक  जैसे  बजट  में  सस्ते  और  अच्छे  होटल  मिल  सके । जेब  में  पैसे  नहीं  थे  कि  खुद  का  होटल  शुरू  कर  सके  इसलिए  दूसरों  के  होटल  के  साथ  मिलकर  670 करोड़  का  बिजनेस  खड़ा  कर  दिया । पहले  पाटर्नर  के  साथ  मिलकर Orwill  नाम  कि  कंपनी  शुरू  कि  बाद  में  बदलाव  लाकर  खुद  कि OYO Room  नाम  कि  कंपनी  शुरू कि ।मई 2013 में  केवल एक  होटल  बुकिंग  से शुरू  हुआ  कारोबार  आज 1200 + होटल  बुकिंग  और  40,000  से  ज्यादा  लोगों  को  नौकरी  मिली है । रितेश अग्रवाल  कभी  कॉलेज  भी  नहीं  गए  और  सिर्फ  22 साल  कि  उम्र  में  वह OYO Room  के  मालिक  है  रितेश आग्रवाल  कि  कामयाबी  का  सफर  अब  और  भी  तेजी  से  बढ़  रहा  हैं । रितेश अग्रवाल  ने  कम  कीमत  में  अच्छे  होटल  में  रूकने  का  लोगों  का  सपना  सच  कर  दिया  है ।

स्नेपडील  कि  कहानी 

IIT  दिल्ली  के  छात्र  कुणाल  बहल  ने  5  साल  पहले  अपने  दोस्त  रोहित  बंसल  के  साथ  मिलकर  एक  ई - कॉमस  कंपनी  का  सपना  देखा , देखते  ही  देखते  आज  यह  सपना  1.4 बिलियन  डॉलर   का  हो  गया  है । इनकी  वेबसाइट  Snapdeal  पर  आपको  सभी  चींजे  मिल  जाएगी  जिसकी  जरूरत  आपको  रोजमर्रा  के  कामों  मे  होती  है।  रोहित  बहल  ने  अपने  कारोबार  कि  शुरुआत  2010  में  मनी  सेवर  नाम  कि   कूपन  कंपनी  से  शुरू  किया , कारोबार  अच्छा  चल  रहा  था  लेकिन  कुणाल  के  सपने  बड़े  थे ।  इसी  दौरान  दोनों  दोस्तो  कि  नजर  अलीबाबा  शॉपिंग  साइट  पर  गई  यह  भी  कुछ  एेसा  ही  करना  चाहते  थे ,दोनों  ने  अॉनलाइन  शॉपिंग  पोर्टल  Snapdeal.Com  शुरू  कर  दिया । कुणाल  और  रोहित  जैसे  लोग  अपनी  तकदीर  खुद  लिखने  वालों  में  से  एक  है ,यह  लोग  नौकरी  देने  में  विश्वास  करते  है ।

Snapdeal  कि  कामयाबी  का  सफर

* 2011 में  Snapdeal  ई- कॉमर्स  कंपनी  बनी ।
* तब  यह  डेली  बेस  पर  डील  करती  थी ।
* फिर  साइट  ने  प्रोडक्ट  रिटेलिंग  का  काम  शुरू  किया ।
* यहीं  से  कंपनी  ने  कामयाबी  की  सिढ़ियां चढ़ी ।
* Snapdeal , flipcart  के  बाद  देश  कि  दूसरी  सबसे  बड़ी  शॉपिंग साइट  है ।
* Snapdeal  का  सालाना  टर्नओवर  1.4  बिलियन डॉलर  का  हैं ।
* Snapdeal  के  पास  विदेशी  ग्रुप  के  अलावा रतन  टाटा  जैसे  ग्रुप  ने  भी  इन्वेस्ट  किया  है ।

OLA cab  कि  कहानी 

भारत  में  कामयाब  स्टार्ट अप  में  से  एक  है  OLA Cab ।
1.2 बिलियन  डॉलर  के  साथ  Ola  भारत  कि  तीसरी  सबसे  बड़ी  स्टार्ट अप  कंपनी  है । एक  सफर  के  दौरान  हुई  परेशानी  ने  भावेश  को  एक  ऐसा  अॉइडिया  दे  दिया  जिसने  देश  में  यात्रा  जगत  में  क्रांति  लेकर  आ  गया । आप  घर  पर  आराम  से  रहे  और  टैक्सी  वाला  आपके  घर  पहुँच  जाता  है  यह  संभव  हुआ  है  OLA Cab  जैसी  मोबाईल  एप  से   बुक  होने  वाली  Cab  कि  वजह  से,  देश  में  अॉनलाइन  Cab  बुकिंग  सर्विस  श्रेय  जाता  है  भावेश अग्रवाल  को  IIT  मुम्बई  से  पास  29  साल  के  भावेश  अग्रवाल  ने  दोस्त  अंकित  भाटी  के  साथ  OLA. Cab  कि  शुरुआत  की  । IIT  मुम्बई  पास  करने  के  बाद  भावेश  अग्रवाल  ने  दो  साल  माइक्रोसाफ्ट  में  नौकरी  कि  उसके  बाद  एक  अॉनलाइन  कंपनी  शुरू  कि  जो  टूर  एड  ट्रेवल  पैकेज  बेचती  थी ।इसी  कारोबार  के  दौरान  उन्हें  एक  बार  टैक्सी   लेनी  पड़ी  यह  अनुभव  बहुत  बेकार  रहा  टैक्सी  ड्राइवर  ने  बीच  में  भावेश  अग्रवाल  से  और  पैसे  माँगना  शुरू  कर  दिया  पैसे  नहीं  दिए  तो  रास्ते  में  ही  उतार  दिया । तब  भावेश  ने  सोचा  कि  एेसा  ही  न  जाने  कितने  लोगों  के  साथ  होता  होगा ,तब  भावेश अग्रवाल  को  Ola  cab  का  अॉइडिया  आया और  2011 में  ओला  टैक्सी  सर्विस  की  शुरूआत  की  जो  सस्ती  हो  और  अपने  वादे  पर  टिके  रहने  वाली  हो ।दोस्त  अंकित  के  साथ  मिलकर  3.3 लाख  डॉलर  के  निवेश  के  साथ  कंपनी  शुरू  कि  आज  कंपनी  1.2 बिलियन  डॉलर  टर्नओवर  से  ज्यादा  की  है ।
(नोट :- सभी चित्र Google से  साभार)